India Shayari

20210922 085104

[150+] Sayri Ki Dayri | Shayri Ki Dayri In Hindi | शायरी की डायरी

Hello, Friends Are, You Looking For Sayri Ki Dayri. So Today We, Have Brought the Best Collection Of Shayri Ki Dayri. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Shayari Ki Dayari Hindi, शायरी की डायरी 2021, Dayri Ki Shayri Etc. Also, Share These With Your Friends.

Sayri Ki Dayri

 

Sayri Ki Dayri

लाली, ये काजल, जुल्फें भी खुली खुली
यूँ ही जान मांग लेती, इतना इंतज़ाम क्यूं किया


एक सपने की तरह सजा कर रखूँ
अपने इस दिल में हमेशा छुपा कर रखूँ
मेरी तक़दीर मेरे साथ नहीं वरना
ज़िंदगी भर के लिए उसे अपना बना कर रखूँ


मुहब्बत को जब लोग खुदा मानते है,
इश्क़ करने वालों को क्यों बुरा मानते है,
जब जमाना ही पत्थर दिल है
फिर पत्थर से लोग क्यों दुआ मांगते है


कोई चाहता है किसी को अपनाने के लिए,
कोई चाहता है किसी को तन्हाई से बचाने के लिए,
मुझे भी किसी ने चाहा था
सिर्फ अपना दिल बहलाने के लिए.


वो ही मेरा ख्वाब था,
वो ही मेरा जज्बात था,
दिल के जर्रें-जर्रें में बसा था वो,
बस उसी को ये एहसास न था


नदी जैसी जिन्दगी,
दो किनारों जैसे हालात हैं,
एक किनारें ख्वाहिशें
और दुसरे किनारे औकात हैं.


जिंदगी में ऐसे शख्स मत खोना,
जिसके दिल में तुम्हारे लिए
इज्जत, प्यार और फ़िक्र हो.


शहर की जमीने क्या महंगी हुई,
लोगो ने तो हद कर दिया,
अब तो लोगों ने दिलों में भी जगह
देना बंद कर दिया।


एक अजीज मिला था कहने को,
एक खँडहर मिला था रहने को,
मैं प्यासी थी उसके प्यार की
वो जहर दे गया पीने को.


उस नज़र की तरफ मत देखो
जो तुम्हे देखना से इनकार करती है
दुनिया की इस महफ़िल में उस नज़र को देखो
जो आपका इंतज़ार करती है.


इंतजार के लम्हें जब पिघलने लगते हैं,
गली के लोग मेरे दिल पर चलने लगते हैं.
इसलिए मैं परिंदों से दूर भागता हूँ
कि इनमें रह कर मेरे पर निकलने लगते हैं.


Shayri Ki Dayri

Shayri Ki Dayri

मुमकिन नही है हर नजर में बेगुनाह रहना
कोशिश करें कि खुद की नजरों में #बेदाग हों


जो हुकुम करता है, वो इल्तज़ा भी करता है,
आसमान कही झुका भी करता है,
और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले,
इन्तेज़ार मेरा कोई वहा भी करता है

Jo Hukum Karata Hai, Vo Iltaza Bhi Karata Hai,
Aasamaan Kahi Jhuka Bhi Karata Hai,
Aur Too Bevapha Hai To Ye Khabar Bhee Sun Le,
Intezaar Mera Koee Vaha Bhi Karata Hai


बिन बात के ही रूठने की आदत है;
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;
आप खुश रहें, मेरा क्या है;
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।

Bin Baat Ke Hi Roothane Ki Aadat Hai;
Kisi Apane Ka Saath Paane Ki Chaahat Hai;
Aap Khush Rahen, Mera Kya Hai;
Main To Aaina Hoon, Mujhe To Tootane Ki Aadat Hai.


कुछ मतलब के लिए ढूँढते हैं मुझको,
बिन मतलब जो आए तो क्या बात है,
कत्ल कर के तो सब ले जाएँगे दिल मेरा,
कोई बातों से ले जाए तो क्या बात है.”

Kuchh Matalab Ke Lie Dhoondhate Hain Mujhako,
Bin Matalab Jo Aae To Kya Baat Hai,
Katl Kar Ke To Sab Le Jaenge Dil Mera,
Koy Baaton Se Le Jae To Kya Baat Hai.


meri chahat nahi beeti abhi kuch nahi badla
agar chaho agar samjho meri mano laut aao abhi kuch nahi badla

मेरी चाहत नहीं बीती अभी कुछ नहीं बदला
अगर चाहो अगर समझो मेरी मनो लौट आओ अबी कुछ नहीं बदला


takdeer k likhe par kabhi sikhwaa na kiya kar
to itna akalmand nahi jo khuda ke irade samjh sake

तकदीर के लिखे पर कभी सिकवा ना किया कर
तो इतना अकलमंद नहीं जो खुदा के इरादे समझ सके


yun to duniya mein kahene se sab bhai hote hai
magar saath rehne se pata lag jata hai
kitne in mein kasai hote hai


यूँ तो दुनिया में कहेने से सब भाई होते है
मगर साथ रहने से पता लग जाता
कितने इन में कसी होता है


ye mareeje ishq ka haal hai ke ye zindagi bhi behaal hai
kabhi dard hai to dawa nahi jo dawa mili to sifa nahi


ये मरीजें इश्क का हाल है के ये ज़िन्दगी भी बेहाल है
कभी दर्द है तो दावा नहीं जो वादा मिली तो सिफ़ा नहीं


dekhi jo nabz meri has kar bola wo haakim
ja jama le mahefil purane dosto ke saath
tere har marz ki dawa wahi hai

देखी जो नब्ज मेरी हस कर बोला वो हाकिम
जा जमा ले महफिल पुराने दोस्तों के साथ
तेरे हर मर्ज की दवा वही है


likhne wale ne kiya khub likha hai
zindagi jab mayus hoti hai
tabhi to mahsoos hoti hai

लिखने वाले ने किया खूब लिखा है
ज़िन्दगी जब मायूस होती है
तभी तो महेसूस होती है


Sayri Ki Dayri In Hindi

Sayri Ki Dayri In Hindi

 

जिस दिन जिंदगी में मेरी कमी पाओगे,
उस दिन खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे


तुमने चाहा ही नहीं ये हालात बदल सकते थे,
तुम्हारे आँसू मेरी आँखों से भी निकल सकते थे,
तुम तो ठहरे रहे झील के पानी की तरह बस,
दरिया बनते तो बहुत दूर निकल सकते थे


इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं!
गम-ऐ-जुदाई से सब डरते हैं
हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत!
हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं


उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ,
सामने न सही पर आस-पास हूँ,
पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे,
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ


तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे,
तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे,
तुम ना मिले तो जीते जी ही मर जायेंगे,
तुम्हें जो पा लिया तो मर कर भी जी जायेंगे


मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही,
वो मुझे चाहे या मिल जाये, जरूरी तो नही,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो,
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नही


प्यार ने प्यार को दूर से देखा,
प्यार ही प्यार को करीब लाया,
प्यार भी प्यार में समा गया,
मगर अफ़सोस ,प्यार ही प्यार को समझ ना पाया।


कितना बेबस है इंसान किस्मत के आगे
हर सपना टूट जाता है हक़ीकत के आगे
जिसने कभी दुनिया मैं झुकना नही सीखा,
वो भी झुक जाते है मोहब्बत के आगे।


मौत पार भी है यकीन
और मुझे उन पार भी इतबार है,
देखते है पहले कौन आती है मेरे पास
अब मुझे दोनो का इंतजार है।


चाहो तो दिल से मिटा देना
चाहो तो भुला देना
पर ये वादा करो कि
कभी मेरी याद आये तो
रोना मत, बस मुस्कुरा देना।


आँखे खोलू तो चेहरा सामने तुम्हारा हो
बंद करू तो सपना तुम्हारा हो
मर जाऊं तो भी कोई गम नही
अगर कफ़न के बदले आँचल तुम्हारा हो।


मर के मिट्टी में मिलूंगा, खाद हो जाऊंगा मैं
फिर खिलूँगा शाख़ पर, आबाद हो जाऊंगा मैं
अपनी ज़ुल्फों को हवा के सामने मत खोलना
वरना ख़ुश्बू की तरह आज़ाद हो जाऊंगा मैं
तेरे जाने से खंडर हो जाएगा दिल का महल
छोड़ के मत जा मुझे, बरबाद हो जाऊंगा मैं


Hindi Shayri Ki Dayri

Hindi Shayri Ki Dayri

तू मेरे दिल के इतने पास हैं,
जैसे धड़कन दिल के साथ हैं


हर रात आपके पास उजाला हो, हर कोई आपका चाहने बाला हो,

आपका हर वक्त गुजरे उनकी यादों के ही सहारे, ऐसा कोई आपके सपनो को सजाने बाला हो।


रंग लायेगी तनहाई भी जरा सब्र तो रख

वक़्त लगता है दुआओं को असर करने में


जब आती है तेरी याद, तेरी फोटो देख लेता हु

करके स्क्रीन जुम तेरा माथा चुम लेता हुं


अगर कोई ज़ोर दे कर पूछेगा

हमारी मौहब्बत की कहानी तो हम भी धीरे से कहेंगे..मुलाक़ात को तरस गए ।।


अजीब हाल है दिल का तेरे ही गले लग कर,

तेरी ही शिकायत करने को दिल करता है


ये ज़माना कम्बख्त सभी को आज़माता है,

जो जितना उठना चाहता है ये उसे उतना ही दबाता है।


कभी बिना पूछे भी हाल बता दिया करो,

कभी बिना मतलब के भी रिश्ता बना लिया करो।


संभाला हुआ है दिल को ये कह कर,

की चुप रह कम्बख्त वक़्त बस आने ही वाला है।


बैठा था सेहमा हुआ क्यूंकि आगे बखेड़ा खड़ा था,

वो रात पुरानी थी मगर वो अँधेरा नया था।


शायरी पन्नों में मैंने लाख लिखी है,

नींद उड़ा दे जो बेहोशों की भी मैंने वो बात लिखी है।


Dayri Ki Shayri

Dayri Ki Shayri

ना जाने क्यों वो हमे बेवफ़ा कहते हैं,
अब तो मुस्कुराने पर होठ जलते हैं


अगर कोई ज़ोर दे कर पूछेगा ..

हमारी मौहब्बत की कहानी तो हम भी धीरे से कहेंगे..मुलाक़ात को तरस गए ।।


रंग लायेगी तनहाई भी जरा सब्र तो रख

वक़्त लगता है दुआओं को असर करने में


अजीब हाल है दिल का तेरे ही गले लग कर,

तेरी ही शिकायत करने को दिल करता है


हर रात आपके पास उजाला हो, हर कोई आपका चाहने बाला हो,

आपका हर वक्त गुजरे उनकी यादों के ही सहारे, ऐसा कोई आपके सपनो को सजाने बाला हो।


जो शख्स आपसे दिल से बात करता हो

उसे कभी दिमाग से जवाब मत देना !!


अनुभव इंसान को गलत फैसले से बचाता है !
लेकिन अनुभव गलत फैसले से हे हासिल होता है !!


जहाँ भी सच्चाई और प्रतिभा है उसे पहचाना जाता है !
कि हम धैर्य के साथ अपने जुनून के प्रति समर्पित रहें


लगातार पवित्र विचार करते रहें !
बुरे संस्कारों को दबाने लिए एकमात्र समाधान यही है


उस देश में औरत का रुतबा कैसे बुलंद हो सकता है ऐ दोस्त !
जहाँ मर्दों की लड़ाई में गालियां मां -बहन को दी जाती है


शायरी की डायरी 2021

शायरी की डायरी 2021

पुरानी होकर भी खास होती है,
मोहब्बत जब होती है तो बेहिसाब होती है


तुमने कहा था आँख भर कर देख लिया करो मुझे,

पर अब आँख भर आती है और तुम नज़र नहीं आते हो किस्मत

और दिल की आपस में कभी नहीं बनती,

क्यूंकि जो दिल में होता है वो कभी किस्मत में नहीं होता है |


उल्फत में अक्सर ऐसा होता है, आँखे हंसती हैं और दिल रोता है,

मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी, हमसफर उनका कोई और होता है |

घर से बाहर कोलेज जाने के लिए वो नकाब मे निकली, सारी गली उनके पीछे निकली,

इनकार करते थे वो हमारी मोहबत से, और हमारी ही तसवीर उनकी किताब से निकली


तोड़ कर जोड़ लो चाहे हर चीज़ दुनिया की सब कुछ

कबीले-ए-मरम्मत है एतबार के सिवा जिसे तैरना सिखाओ,

वही डुबाने को तैयार रहता हैं. खुदगर्ज की बस्ती में,

एहसान भी एक गुनाह हैं


मेरी चाहत नहीं बीती अभी कुछ नहीं बदला

अगर चाहो अगर समझो मेरी मनो लौट आओ अबी कुछ नहीं बदला |

जो हुकुम करता है, वो इल्तज़ा भी करता है, आसमान कही झुका भी करता है,

और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले, इन्तेज़ार मेरा कोई वहा भी करता है |


तकदीर के लिखे पर कभी सिकवा ना किया कर तू इतना अकलमंद नहीं

जो खुदा के इरादे समझ सके जिनके जाने पर परिवार को

दुःख कम और गर्व ज्यादा होता है,

बस उनकी ही वजह से पूरी हिदुस्तान चैनसे सोता है


रग-रग में इस तरह से समा कर चले गये,

जैसे मुझ ही को मुझसे चुराकर चले गये, आये थे मेरे दिल की प्यास बुझाने के वास्ते,

इक आग सी वो और लगा कर चले गये समेट कर ले जाओ

अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से.. अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर.. इनकी ज़रूरत पड़ेगी


तुमने कहा था आँख भर कर देख लिया करो मुझे,

पर अब आँख भर आती है और तुम नज़र नहीं आते हो

किस्मत और दिल की आपस में कभी नहीं बनती,

क्यूंकि जो दिल में होता है वो कभी किस्मत में नहीं होता है |


प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता,
ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता,
दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की,
उस के बिना जिया नहीं जा सकता।


आते हैं जो आँख से आँसू,
उन्हें लगता यह अश्क नहीं पानी हैं,
मगर हम तो वो हैं जो कह देते,
इन आँसुओं के बहाने अपनी कहानी हैं।


मैंने अपनी हर एक सांस तुम्हारी गुलाम कर रखी हैं,
लोगो मैं ये ज़िन्दगी बदनाम कर रखी हैं,
अब ये आइना भी क्या काम का मेरे,
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर रखी हैं।


आँसू आ जाते है रोने से पहले,
ख्वाब टूट जाते है सोने से पहले,
लोग कहते है मोहब्बत गुनाह है,
काश कोई रोक लेते यह गुनाह होने से पहले।


कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं,
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं,
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर,
कि पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।


Related Posts :-

Khuda Shayari In Hindi

Samandar Shayari

Decision Quotes In Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *