India Shayari

20210917 201032 4

[125+] Mehndi Quotes | Mehndi Shayari In Hindi | मेहंदी quotes

Hello, Friends Are You Looking For Some Mehndi Quotes. So Today We Have Brought the Best Collection Of Mehndi Shayari And Quotes. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Mehandi Quotes Image, Mehendi Shayari, Shayari On Mehndi, मेहंदी की शायरी, मेहंदी शायरी Etc. Also, Share These With Your Friends.

Mehndi Quotes

 

Mehndi Quotes

तेरे हाथो की हिना देख कर ये आलम है
मैंने कुछ दिन से तो खाना भी नही खाया है


मेहेंदी का है ये कहना,
अपने पिया के संग रहना,
मेहंदी के रंग का है ये कहना
रंग छूटे पर पिया का संग ना छूटे


कैसे भूल जाऊँ मैं उसको,
जो चाहता है इस कदर
हथेली की मेहंदी में लिखा है
उसने मेरा नाम छिपाकर


होठों पर हंसी न हो
तो हाथों में मेहँदी नहीं लगाई जाती है,
इश्क़ किसी और से हो
तो किसी गैर से शादी नहीं रचाई जाती है.


मेरे प्यार की मेहँदी सजाकर
किसी और का घर बसाने चली है वो,
मुझे बर्बाद करके
किसी और को बर्बाद करने चली है वो.


भीतर ही भीतर चिल्लाई होगी,
हाथों में जब मेहन्दी सजाई होगी,
मैंने उजाड़ दी जिन्दगी उसकी
ये बात उसने खुद को समझाई होगी


मेहँदी है रचने वाली, हाथों में गहरी लाली,
कहे सखियाँ हाथों में अब कालिया खिलने वाली है
तेरे मन को तेरे जीवन को नयी खुशियाँ मिलने वाले है.


मेहरबानी होगी आपकी मुस्कान दिख जाए,
चेहरे पर सजे आपके पैगाम दिख जाए,
पर्दों में, न छिपाओ आँखों का तुम काजल
काश कि मेहँदी में तुम्हारी, हमार नाम दिख जाए


मेहंदी हाथो पे लगा कर,
वो मुस्करा रहीं थीं,
मेरे अरमानों को दफन कर,
वो नया घर बसा रही थी…


मुझे भी फ़ना होना था,
तेरे हाथों की मेहँदी की तरह,
ये गम नहीं मिट जाने का
तू रंग देख निखरा हूँ किस तरह.


तेरी पायल की छमछम मधुर गीत गाती है,
तेरी मुस्कान लूट कर मेरा दिल ले जाती है,
रखा जब पाँव शीशे पर, हुआ मदहोश आईना
ये तेरे पैरों की मेहंदी मेरे मन को भाती है.


Mehndi Shayari

Mehndi Shayari

हाथों की लकीरों में उनका नाम नहीं
फिर भी हम मेहँदी से लिख लिया करते है !!


वो जो सर झुका के बैठे हैं
हमारा दिल चुराये बैठे हैं
हमने उनसे कहा हमारा दिल हमे लौटा दो
तो बोले हम तो हाथो में
मेहँदी लगा के बैठे हैं !!


वह आये महफ़िल मैं मेरे सामने बैठे हैं
अपने हाथों में मेरा दिल दबाये बैठे हैं
हमने उनसे पूछा क्या है तुम्हारे हाथों मैं
मुस्कुरा के बोले जान
मेहँदी लगाए बैठे हैं


मेहरबानी होगी आपकी मुस्कान दिख जाए
चेहरे पर सजे आपके पैगाम दिख जाए
पर्दो में न छिपाओ आंखों का तुम काजल
काश के मेहंदी में तुम्हारी हमारा नाम दिख जाए !


खुदा-ऐ-रेहमत तू मेरा हो जाये
वरना अंजाम मेरा बहुत बुरा होगा
रचाये जो अगर तूने मेहंदी से हाथ अपने
वो मेहंदी नहीं मेरे दिल का खून होगा !!


वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई
अब मैं हुँ किसी और की ये मुझे बता कर रोई
कैसे कर लुँ उसकी मोहब्बत पे शक यारो
वो भरी महफिल में मुझे गले लगा कर रोई


वो जो सर झुकाए बैठे हैं
हमारा दिल चुराए बैठे हैं
हमने कहा हमारा दिल लौटा दो
वो बोली हम तो हाथो में मेहँदी
लगाये बैठे हैं


कैसे भूल जाऊँ मैं उसको जो
चाहता है इस कदर
हथेली की मेहंदी में लिखा है उसने
मेरा नाम छिपाकर !!


ज़ुल्फ बिखेरे उसकी मोहब्बत
मुझे नुमाइश सी लगती है
उसके हाथों पे लगी मेहंदी मुझे
पराई सी लगती है


उजली-उजली धूप की रंगत
भी फ़ीकी पड़ जाती है
आसमान के हाथों जब शाम
की मेहंदी रच जाती है


पूछे जो कोई मेरी निशानी
रंग हिना लिखना
आऊं तो सुबह जाऊ तो मेरा
नाम सबा लिखना
बर्फ पड़े तो बर्फ पे मेरा नाम
दुआ लिखना


Mehndi Quotes In Hindi

Mehndi Quotes In Hindi

मल रहे हैं वो अपने घर मेहंदी
हम यहाँ एड़ियाँ रगड़ते हैं !


मेहँदी लगा लो उसके नाम की,
जो मोहब्बत हो आप की.


वो मेहंदी के हाथों में क्या तराशेंगे नाम हमारा,
जब नाम ही छुपा लिखा है उनके हाथों में।


तेरे मेहँदी लगे हाथों पे मेरा नाम लिखा है
ज़रा से लफ्ज़ में कितना पैगाम लिखा है


हाथों की लकीरों में उनका नाम नहीं,
फिर भी हम मेहँदी से लिख लिया करते है.


खुदा ही जाने क्यूँ तुम हाथो पे मेहँदी लगाती हो,
बड़ी नासमझ हो फूलों पर पत्तों के रंग चढ़ाती हो.


ये भी नया सितम है हिना तो लगाए ग़ैर
और दाद उस की चाहें वो मुझ को दिखा के हाथ


शामिल है मेरा ख़ून-ए-जिगर तेरी हिना में
ये कम हो तो अब ख़ून-ए-वफ़ा साथ लिए जा


काँच के पार तिरे हाथ नज़र आते हैं
काश ख़ुशबू की तरह रंग हिना का होता


मैं वो साग़र नहीं आए कभी लब तक जो ‘रियाज़’
किस को मिलता है तिरे रंग-ए-हिना का बोसा


चुरा के दिल मेरा मुठ्ठी में छिपाए बैठे है,
और बहाना ये है कि मेहंदी लगाए बैठे है.


Heart Touching Mehndi Shayari

Heart Touching Mehndi Shayari

मेहंदी ने ग़ज़ब दोनों तरफ़ आग लगा दी
तलवों में उधर और इधर दिल में लगी है


करतूतें तो देखियें मेहंदी की
तेरा नाम क्या लिखी शर्म से लाल हो गई


वो जो सर झुकाए बैठे हैं, हमारा दिल चुराए बैठे हैं…
हमने कहा हमारा दिल लौटा दो, वो बोली- हम तो हाथो में मेहँदी लगाये बैठे हैं…


पूरी मेहंदी भी लगानी नहीं आती अब तक
क्यूँ कर आया तुझे ग़ैरों से लगाना दिल का“


अल्लाह-रे नाज़ुकी कि जवाब-ए-सलाम में
हाथ उस का उठ के रह गया मेहंदी के बोझ से


उजली-उजली धूप की रंगत भी फ़ीकी पड़ जाती है
आसमान के हाथों जब शाम की मेहंदी रच जाती है


मेहँदी का रंग चढ़ा ऐसे मेरे हाथों में
जैसे तेरी इश्क़ चढ़ा था मेरी सांसों में


करतूतें तो देखियें मेहंदी की
तेरा नाम क्या लिखी शर्म से लाल हो गई


हाथों की लकीरों में उनका नाम नहीं
फिर भी हम मेहँदी से लिख लिया करते है


वो मेहंदी के हाथों में क्या तराशेंगे नाम हमारा
जब नाम ही छुपा लिखा है उनके हाथों में


तेरे हाथों की मेहँदी में मेरे प्यार का भी रंग है
तू किसी और का हो जा पर तेरा प्यार मेरे संग है


Amazing Mehndi Quotes

Amazing Mehndi Quotes

मेहंदी लगाने का जो ख्याल आया आप को
सूखे हुए दरख़्त हिना के हरे हुए


किस्मत की लकीरें भी आज इठलाई है
तेरे नाम की मेहँदी जो हाथों अपर रचाई है


चुरा के दिल मेरा मुठ्ठी में छिपाए बैठे है
और बहाना ये है कि मेहंदी लगाए बैठे है


खुदा ही जाने क्यूँ तुम हाथो पे मेहँदी लगाती हो
बड़ी नासमझ हो फूलों पर पत्तों के रंग चढ़ाती हो


इन हाथों में लिख के मेहँदी से सजना का नाम
जिसको मैं पढ़ती हूँ सुबह शाम


तेरे हाथों के मेहंदी का रंग गहरा लाल है
क्योंकि मेरे इश्क़ का चाहत बेमिसाल है


लड़की के हाथों पर जब मेहँदी रचाई जाती है
तो बहुत सारे रिश्तों की अहमियत बताई जाती है


शादी में लगी मेहँदी का रंग कभी नहीं छूटता है
ऐसे मौके पर ना जाने कितने आशिकों का दिल टूटता है


Beautiful Mehndi Shayari

Beautiful Mehndi Shayari

मेहंदी लगाए बैठे हैं कुछ इस अदा से वो
मुट्ठी में उन की दे दे कोई दिल निकाल के !!


मुझे भी फ़ना होना था,
तेरे हाथों की मेहँदी की तरह,
ये गम नहीं मिट जाने का,
तू रंग देख निखरा हूँ किस तरह।


वो आए है महफिल में मेरे, सामने बैठे हैं,
अपने हाथों में मेरा दिल, दबाए बैठे हैं,
हमने उनसे पूछा क्या है तुम्हारे हाथो में,
मुस्कुरा के बोले, मेहंदी लगाए बैठे हैं।


क्या हुआ जो उसने रचा ली मेहंदी,
हम भी अब सेहरा सजाएंगे,
पता है वो मेरे नसीब में नहीं है,
अब उसकी छोटी बहन को पटाएंगे।


दोस्ती और मेहंदी में फर्क नही होता,
दोनो एक काम कर जाती है,
जिंदगी मैं खुशियों के रंग देती है,
और खुद फना हो जाती है।


दिल में इक मासूम अरमान सजा रखा है,
पायल झंकार सब सामान सजा रखा है,
आओ कभी हमसे खुशबू चाहत की लेने,
भरकर मेहँदी से ये गुलदान सजा रखा है।


तेरी पायल की छमछम मधुर गीत गाती है,
तेरी मुस्कान लूट कर मेरा दिल ले जाती है,
रखा जब पाँव शीशे पर, हुआ मदहोश आईना,
ये तेरे पैरों की मेहंदी मेरे मन को भाती है।


मेहरबानी होगी आपकी मुस्कान दिख जाए,
चेहरे पर सजे आपके पैगाम दिख जाए,
पर्दों में, न छिपाओ आँखों का तुम काजल,
काश कि मेहँदी में तुम्हारी, हमारा नाम दिख जाए।


होठों पर हंसी न हो,
तो हाथों में मेहँदी नहीं लगाई जाती है,
इश्क़ किसी और से हो,
तो किसी गैर से शादी नहीं रचाई जाती है।


किसी और के रंग में रंगने लगे है वो,
मेरी दुनिया बेरंग कर,
किसी गैर की याद में हँसने लगे है वो।


वो जो सर झुकाए बैठे हैं,
हमारा दिल चुराए बैठे हैं,
हमने कहा हमारा दिल लौटा दो,
वो बोली- हम तो हाथो में मेहँदी लगाये बैठे हैं।


Related Posts :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *