India Shayari

20210711 132557

[ 81+ ] Matlabi Shayari | Matlabi Log Shayari | मतलबी शायरी

Hello, Friends Are You Looking For Matlabi Shayari. So Today We Have Brought the Best Collection Of Matlabi Log Shayari. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Matlabi Pyar Shayari, Matlabi Dost Shayari, Matlabi Duniya Shayari Etc. Also, Share These With Your Friends.

Matlabi Shayari

Matlabi Shayari

इस मतलब की दुनिया में कौन किसी का होता है
वही दोस्त धोखा देते हैं जिनपर भरोसा ज़यादह होता है


दिखा दी है शीशे ने असलियत झूठे लोगों की बनावटी चेहरे पहन कर

अक्सर जो झूठी दुनिया में घूमते हैं।


मुझको छोड़ने की वज़ह तो बता दे

मुझसे नाराज़ थे या मुझ जैसे हजारो थे


दुश्मन भी इतना नहीं करता

जितना तूने दोस्त बनके किया है


मतलबी दुनिया में लोग अफसोस से कहते है की,

कोई किसी का नही


प्यासी ये निगाहें तरसती रहती है तेरी याद मे अक़्सर बरसती रहती है


मैं सूरज के साथ रहकर भी भूला नहीं अदब,
लोग जुगनू का साथ पाकर मगरूर हो गये


मुखौटे बचपन में देखे थे मेले में टंगे हुए
समझ बढ़ी तो देखा लोगों पे है चढ़े हुऐ..


जिन्दगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रखों,
मतलबी दोस्तों को नजरअंदाज रखों.


कैसे भरोसा करू गैरों के प्यार पर,
यहाँ अपने ही मजा लेते हैं अपनों की हार पर.


इस दौर में लोग हजारों दर्द दिल में छुपा के रखते है,
क्योंकि कोई हमदर्द नहीं मिलता है सुनाने के लिए


जो हम दुसरो को देंगे, वहीं लौट कर आयेगा…
चाहे वो इज्जत, सम्मान हो, या फिर धोखा


Matlabi Log Shayari

Matlabi Log Shayari

कुछ यूँ हुआ कि.जब भी जरुरत पड़ी मुझे
हर शख्स इतेफाक से.मजबूर हो गया !!


मेरी दुनिया का हर शख्स मतलबी निकला,
घर एक आईना था बस वही वफादार निकला।


दिलों में मतलब और जुबान से प्यार करते हैं,
बहुत से लोग दुनिया में यही कारोबार करते हैं।


इश्क़ बेमतलब ही सही,
पर मतलबी लोगो से हुआ।


उनका मतलबी होना भी पसंद है हमें,
मतलब से ही सही याद तो करते हैं हमें।


सब मतलब की यारी है,
यही दुनिया की सबसे बड़ी बीमारी है।


दिल तो दिल है , मचल ही जाता है
हम मर्ज़े-इश्क से , नासाज़ बहुत हैं


ढूॅढना ही है तो परवाह करने वालों को ढॅूढ़ीये साहेब,
इस्तेमाल करने वाले तो ख़द ही आपको ढॅूढ़ लेंगे…


Matlabi Shayari In Hindi

Matlabi Shayari In Hindi

सब मतलब की यारी है,
यही दुनिया की सबसे बड़ी बीमारी है।


हुस्न के साथ मतलबी नकाब निकलता है,
अक्सर चमकता सोना खराब निकलता है।


हाँ बहुत मतलबी हूँ मैं भी इश्क़ में,
चाहता हूँ मैं वो जो नहीं है मिरा।


आशना होकर भी अजनबी से लगे,
इस दफ़ा तुम भी मतलबी से लगे।


कैसे कह दूँ इश्क मतलबी है उसका,
उसे मुझसे कोई फायदा भी तो नहीं है।


ऐसी मतलबी दोस्ती की जरूरत नहीं,
जो वक़्त और माहौल के साथ बदलती हो।


उन मतलबी लोगो की तरहा ना बन
जिनको अपने लिए सबको अपना अपना कहना पड़ता है।


हम विश्वास को इंसानियत मनाते थे
पर वो मतलबी लोग
तो सिर्फ अपने मतलब को ही जानते थे।


जिनको हमने इस दिल में बसा रखा था
उनका नाम तो मतलबी लोगो में आ रखा था।


Matlabi Log Shayari In Hindi

Matlabi Log Shayari In Hindi

भुला देंगे तुम्हे भी जरा सब्र तो कीजिए
आपकी तरह मतलबी होने में जरा वक्त लगेगा !!


गर्म चाय भी देती है एक सीख हरदम,
मतलबी है दुनिया बहुत इसलिए फूंक फूंक कर रखना हर कदम।


अगर मतलबी कहती दुनिया तो हूं,
डर लगता है कहीं खो तुम्हें ना दूं।


मतलबी इस दुनिया में ,
मतलबी तु भी बन,
चलता अगर साथ कोई ,
साथ उसके तु भी चल।


मतलबी लोगों का दौर है यारों,
यहां देख कर भी अनदेखा करते हैं हज़ारों।


अभी मतलबी होने ही जा रहे थें,
के तभी मेरी बदनसीबी मुझे याद आ गयी।


भरोसे की आड़ में उन्होंने मुझे बहुत सताया है
मतलबी लोगों की तरहा शायद
मतलब के लिए उन्होने मुझे अपना बनाया है।


मतलबी लोगो की मीठी बातें ओह
ये तो सिर्फ एक दिखावा है।
चाहे आप भी उन्हें आजमालो
आपको भी धोखा मिलेगा ये मेरा दावा है।


Fake Love Matlabi Shayari

Fake Love Matlabi Shayari

इश्क़ बेमतलब ही सही,
पर मतलबी लोगो से हुआ।


काटों में रह कर भी हम ज़िन्दगी जी लेते
है हर ज़क्म को अपने हाटों से सी लेते है
जिस दोस्त को केह दिया दोस्त का हाथ
हम ऊस हाथ से ज़हर भी पि लेते है


चिठ्ठी ना कोइ संदेस जाने वो कौन सा देस जहां तुम चले गए हो
इस दिल पे लगा के ठेंस जाने वो कौन सा देस जहां तुम चले गए हो


प्यासी ये निगाहें तरसती रहती है
तेरी याद मे अक़्सर बरसती रहती है
हम तेरे खयालों मे डूबे रहते है
और ये ज़ालिम दुनियां हम पर हंसती रहती है


कोई कहता है कि दुनिया ‘प्यार’ से चलती है
कोई कहता है कि दुनिया ‘दोस्ती’ से चलती है
लेकिन जब आजमाया तो पाया कि
दुनिया तो बस ‘मतलब’ से चलती है…


काटों में रह कर भी हम ज़िन्दगी जी लेते
है हर ज़क्म को अपने हाटों से सी लेते है
जिस दोस्त को केह दिया दोस्त का हाथ
हम ऊस हाथ से ज़हर भी पि लेते है


प्यासी ये निगाहें तरसती रहती है
तेरी याद मे अक़्सर बरसती रहती है
हम तेरे खयालों मे डूबे रहते है
और ये ज़ालिम दुनियां हम पर हंसती रहती है


कोहनी पर टिके हुए लोग,
टुकङों पर बिके हुए लोग,
करते हैं बरगद की बातें
ये गमले में उगे हुए लोग


मतलबी लडकी से अच्छी तो मेरी सिगरेट हे यारो……..
जो मेरे होठ से अपनी जिंदगी शुरू करती हे..
ओर मेरे कदमो के नीचे अपना दम तोड देती हे


कितनी ही शिद्दत
से निभा लो रिश्ता दिल का
बदलने वाले बदल ही जाते हैं


Other Posts –

Kismat Shayari In Hindi

Zakhmi Dil Shayari

Garibi Shayari

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *