India Shayari

20210925 114719

[145+] Masti Shayari | मौज मस्ती वाली शायरी | Masti Shayari Hindi

Hello, Friends Are You Looking For Masti Shayari. So Today We Have Brought the Best Collection Of मौज मस्ती वाली शायरी. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Masti Shayari Image, Masti Shayari Hindi, मौज मस्ती पर शायरी Etc. Also, Share These With Your Friends. Masti Shayari.

Masti Shayari

Masti Shayari

जिसकी मस्ती जिंदा है, उसकी हस्ती जिंदा है।
वरना यूँ समझ लें, हम यूँ ही जिंदा हैं।


स्कूल में मस्ती थी, हमारी भी कुछ हस्ती थी
टुइशनस का सहारा था और दिल ये आवारा था
काश फिर दोस्तों संग हम स्कूल जाते
और छुट्टियाँ मस्ती से बिताते


जाता सूरज कल फिर लौट आएगा
बिता बचपन फिर कैसे लौट पाएगा
वो मस्ती वो बेफिक्री का आलम
याद बन कर ही जब-तब सताएगा


खेला करते थे कूदा करते थे,
मौज-मस्ती में जीया करते थे।
वो मासूम बचपन ही था जहां ,
सभी से दोस्ती कर लिया करते थे।


काग़ज़ की कश्ती थी पानी का किनारा था,
खेलने की मस्ती थी ये दिल अवारा था,
कहाँ आ गए इस समझदारी के दलदल में,
वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था।


वो बचपन की बस्ती, मासूमियत भरी मस्ती।
आँखों में चमक, अंदाज में धमक
खिलखिलाहट से गूंज उठती थी खनक
बातों में होती थी चहक, अपनेपन की खास महक
वो बचपन की बस्ती, मासूमियत भरी मस्ती


ना किसी के आभाव में जियो
ना किसी के प्रभाव में जियो;
ये जिंदगी आपकी है
बस इसे अपने मस्त स्वाभाव में जियो।


सोचा ना था कभी ऐसी दोस्ती होगी,
मंजिलों के साथ राहें भी हसीन होगी,
जन्नत की गलियों के ख्वाब क्यों देखूं
अगर हम सारे दोस्त साथ होंगे तो नरक में भी मस्ती होगी


छोटी-बड़ी शरारतों का अंजाम है दोस्ती;
कहे-अनकहे रिश्तों का पैगाम है दोस्ती;
दिन-रात मस्ती का नाम है दोस्ती;
लेकिन आपके बिना बेजान है ये दोस्ती


समुंदर ना हो तो कश्ती किस काम कीं,
मजाक ना हो तो मस्ती किस काम की।
दोस्तों के लिए तो कुर्बान है ये ज़िंदगी,
अगर दोस्त ही ना हो तो फिर ये जिंदगी किस काम की


कभी झगडा तो कभी मस्ती,
कभी आंसू तो कभी हंसी
छोटा सा पल और छोटी छोटी ख़ुशी,
एक प्यार की कश्ती और ढेर सारी मस्ती,
बस इसीका ही तो नाम है दोस्ती


जिधर देखो इश्क़ के बीमार बैठे हैं,
हज़ारों मर गए लाखों तैयार बैठे हैं,
साले बर्बाद होते हैं लड़कियों के पीछे,
और कहते हैं मोदी सरकार की वजह से
बेरोज़गार बैठे


किसी लड़की को इतने भी मैसेज मत भेजो
कि वो खुद को करीना और
तुम्हें कमीना समझने लगे।


जब कोई बार बार कहे कि और सुनाओ
तो उसको ऐसी ऐसी सुनाओ कि
उसके होश ठिकाने आ जाएं।


बीवी ने एक बादाम दे दिया
पति- बस एक
बीवी- हाँ बाक़ी सबका भी ऐसा ही टेस्ट है।


किस्मत का कोई भरोसा नहीं होता दोस्तो
क्या पता मेरी होने वाली बीवी भी
मेरे पोस्ट पे लाइक कमेंट करती हो


पहले ब्रेकअप होता था तो
खत जला दिए जाते थे,
अब किसी में दम है तो
मोबाइल जला कर दिखाओ


जिधर देखो इश्क़ के बीमार बैठे हैं,
हज़ारों मर गए लाखों तैयार बैठे हैं,
साले बर्बाद होते हैं लड़कियों के पीछे,
और कहते हैं मोदी सरकार की वजह से
बेरोज़गार बैठे


मौज मस्ती वाली शायरी

मौज मस्ती वाली शायरी

सुनता बहुत हूँ पर कुछ नहीं कहता मैं,

हँसता बहुत हूँ पर खुश नहीं रहता मैं।


अगर घर में कोई भी छोटा हो तो उसकी गलती हो या ना हो,

लेकिन गलती उसी की मानी जाती है


यह जरूरी नहीं है कि दर्द वाली पोस्ट करने वाला मोहब्बत का मारा हो हो सकता है
घरवाली से परेशान रहने वाला भी हो सकता है


तुम्हें डांट दूंगी भी और फिर मनाऊंगी भी उन से लडूंगी भी और
उन्हें सताऊंगी भी, लेकिन मैं कभी तुम्हें छोड़कर नहीं जाऊंगी


एक तो मैं बहुत सुंदर हूं और दिल से हारी हूं 

बना ले तू मुझे अपनी राजकुमारी मैं हूं कन्याकुमारी


मम्मी मुझे एप्पल या ब्लैक बेरी चाहिए मम्मी

बेटा पहले फ्रीज में संतरे और अंगूर रखे हैं वह खत्म कर


लड़कियाँ कभी-कभी अपने भाई से पिटवाने की बात करती है, उस पगली को यह मालूम नहीं है
कि अपना भाई भी उसकी गर्लफ़्रेंड के भाई से डर डर के जिंदगी बिता रहा है


सवेरे-सवेरे आज देवी के नाम से मैसेज आया तभी से ही देवी से
प्रार्थना कर रहा हूं, कि कोई दान दाता आ जाए


अगर जो मुझे भूल जाए उसका फोन बिखर

जाए Sim टूट जाए, चार्जर राख हो जाए


मोटू – डॉक्टर साहब मेरी आँखें कमजोर हो गई है डॉक्टर – तुम्हें क्या नहीं दिख रहा है
मोटू – शादी के सपने डॉक्टर – चल भाग साले मोटू


अरे मेरे भाई गर्लफ़्रेंड तो ऐसी होनी चाहिए वह पूछे जानू..
आपके पास पैसे हैं या नहीं.. मैं पैसे ट्रांसफर करूँ क्या


जो तेरी बिखरी ज़ुल्फ़ें मैं सवार सका तो जीने का मेरे कुछ फायदा हो जाए,

जो तेरा नाम यूँ ही पुकारता रहा प्यार से तो इस दिल और सीने का मेरे कुछ फायदा हो जाए।


थोड़ी मस्ती थोड़ा सा ईमान बचा पाया हूँ, ये क्या कम है मैं अपनी पहचान बचा पाया हूँ,

कुछ उम्मीदें, कुछ सपने, कुछ महकी-महकी यादें, जीने का मैं इतना ही सामान बचा पाया हूँ।


ना मिले जाम तो कोई ख़ासा गम नहीं है,

पर जो हो सके दीदार आपके चेहरे का तो मस्ती बेशुमार हो खुदा

कसम आप भी किसी जाम से कम नहीं है।


तेरी आँखे मस्त शराब सी है

कोई दो पल देख ले तो फ़ना हो जाए,

महातम में जो तू मुस्कुरादे अगर कसम खुदा की वहां भी जश्न का समां हो जाए।


हम जिस तरह से ज़िन्दगी जीते है

दुनिया इस तरह से जीने को तरसती रहेगी,

चाहे लाख कमियां हो जाए ज़िन्दगी में

पर हमेशा कहीं ना कहीं मस्ती रहेगी।


जिंदगी को गमले के पौधे की तरह मत बनाओ जो
जो थोड़ी सी धूप लगने पर मुरझा जाये
जिंदगी को जंगल के पेड़ की तरह बनाओ
जो हर परिस्तिथि में मस्ती से झूमता रहें


थोड़ी मस्ती थोड़ा सा ईमान बचा पाया हूँ
ये क्या कम है मैं अपनी पहचान बचा पाया हूँ
कुछ उम्मीदें कुछ सपने कुछ महकी-महकी यादें
जीने का मैं इतना ही सामान बचा पाया हूँ।


जो तेरी बिखरी ज़ुल्फ़ें मैं सवार सका तो
जीने का मेरे कुछ फायदा हो जाए,
जो तेरा नाम यूँ ही पुकारता रहा प्यार से तो
इस दिल और सीने का मेरे कुछ फायदा हो जाए।


जो रहता अपनी मस्ती में, जिंदगी बोध की गीता है।
निष्काम और निरहंकार, जो धन्यवाद में जीता है।
वह बोधिसत्व है, वन्दित है, उसका बुद्धत्व सुनिश्चित है।


आते हैं खाब मे अब जो, बेगानो की तरह!
कहानी सिमट कर हो गई अफसानों की तरह!!
गुलजार है, अजीज शक्स वो मस्ती मे भूल कर!
कभी बदले गये थे हम भी मकानों की तरह


कोई पत्थर तुम्हें मारे तो आसमां हो जा।
फूल कदमों में गर डाले तो फ़ना हो जा।।
क्या अहमियत है किसी के भी नुक्ताचीनी का
तू जहाँ है अपनी मस्ती में शहंशा हो जा।


Masti Shayari In Hindi

[161]+ Wafa Shayari | Shayari On Wafa In Hindi | वफ़ा शायरी

मस्त मौला बन कर आज कल घूमने लगा हूँ लगता है

मुझे भी कोई ख़ास मिल गया है


गड्ढे सड़कों पर हो या गालों पर,
जान जाने का खतरा दोनों में हैं।


लगा कर फूल होठों से उसने कहा चुपके से,
अगर कोई पास न होता तो तुम फूल की जगह होते।


बाहर से तो रौनक आज भी वही है मगर,
इस इश्क ने अन्दर से जलाया है बहुत कुछ


देखा किये वह मस्त निगाहों से बार-बार,
जब तक शराब आई कई दौर चल गये।


आँख तुम्हारी मस्त भी है और मस्ती का पैमाना भी,
एक छलकते साग़र में मय भी है मय-ख़ाना भी।


दुनिया पड़ी रही दीन दुनियां के चक्करों में
मुझे अपनी दुनिया में घूमने से फुर्सत ना मिली


बस खुद्दारी ही है मेरी दौलत, जो मेरी हस्ती में रहती है
बाक़ी ज़िंदगी तो फ़कीरी है, जो अपनी मस्ती में रहती है


जिसकी मस्ती जिंदा है, उसकी हस्ती जिंदा है।
वरना यूँ समझ लें, हम यूँ ही जिंदा हैं।


हस्ती की बद-मस्ती क्या, हस्ती ख़ुद इक मस्ती है
मौत उसी दिन आएगी, होश में जिस दिन आएँगे


मौज मस्ती वाली शायरी हिंदी

 

मौज मस्ती वाली शायरी हिंदी

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हाँ,

रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन


अनजान हकीकत से मैं ख़्वाब में चल रहा हूँ

मुझे सोने दो इन मुर्दों के बीच जाग कर अब करना भी क्या है


कदर नहीं करता मैं इस बेकदर ज़माने की,

मुझे खुद की खबर नहीं क्या करू रख कर मैं खबर ज़माने की।


रात को फूल को भी नही मालूम की उसे सुबह मंदिर पर जाना है या कब्र पर जाना है,

इसलिये जिंदगी जितनी जीओ मस्ती से जीओ।


समंदर न हो तो कश्ती किस काम की मजाक न हो तो मस्ती किस काम की दोस्तों के लिए कुर्बान है ये ज़िन्दगी

Besties न हो तो ये ज़िन्दगी किस काम की।


मैं वो मरीज़ हूँ जिसकी तुम्हे देखने भर से आह भाग जाती है,

मरते होंगे लाखों तुम पर मैं तो वो हूँ जिसे तुम्हे देखते ही जीने की चाह जाग जाती है


अनजान हकीकत से मैं ख़्वाब में चल रहा हूँ

मुझे सोने दो इन मुर्दों के बीच जाग कर अब करना भी क्या है


मैंने सुना है की इश्क़ गुनाह है अगर गुनाह खूबसूरत है

इतना तो क्या करना बेगुनाह रह कर भी।


आँख तुम्हारी मस्त भी है और मस्ती का पैमाना भी
एक छलकते साग़र में मय भी है मय-ख़ाना भी


ख़ुद अपनी मस्ती है जिस ने मचाई है हलचल
नशा शराब में होता तो नाचती बोतल


मैं मुहब्बत करूँ तुमसे मेरी हस्ती क्या है,
मस्तियाँ अर्श की हैं ख़ाक की मस्ती क्या है


किसी की आँख में मस्ती तो आज भी है वही
मगर कभी जो हमें था ख़ुमार, जाता रहा


Hindi Masti Shayari

Hindi Masti Shayari

देखा किये वह मस्त निगाहों से बार-बार,
जब तक शराब आई कई दौर चल गये


आते हैं खाब मे अब जो, बेगानो की तरह!
कहानी सिमट कर हो गई अफसानों की तरह!!
गुलजार है, अजीज शक्स वो मस्ती मे भूल कर!
कभी बदले गये थे हम भी मकानों की तरह


कोई पत्थर तुम्हें मारे तो आसमां हो जा।
फूल कदमों में गर डाले तो फ़ना हो जा।।
क्या अहमियत है किसी के भी नुक्ताचीनी का
तू जहाँ है अपनी मस्ती में शहंशा हो जा।।


समंदर न हो तो कश्ती किस काम की
मजाक न हो तो मस्ती किस काम की
दोस्तों के लिए कुर्बान है ये ज़िन्दगी


कभी झगडा तो कभी मस्ती,
कभी आंसू तो कभी हंसी,
छोटा सा पल और छोटी छोटी ख़ुशी,
एक प्यार की कश्ती और ढेर सारी मस्ती


इक सिर्फ़ हम ही मय को आँखों से पिलाते हैं
कहने को तो दुनिया में मयखाने हज़ारों हैं
इन आँखों की मस्ती के मस्ताने हज़ारों हैं


मस्ती में झूमता जहाँ है खुशियों में झूमता समाँ है
आये हो बीच हमारे तुम कैसे करें तेरा अभिनंदन


साथ मेरे आप लोगों जैसी हस्ती होगी, जन्नत की गलियों के
ख्वाब क्यूँ देखूं, अगर हम सारे दोस्त
साथ होंगे तो नरक में भी मस्ती होगी


जो रहता अपनी मस्ती में, जिंदगी बोध की गीता है।
निष्काम और निरहंकार, जो धन्यवाद में जीता है।
वह बोधिसत्व है, वन्दित है, उसका बुद्धत्व सुनिश्चित है।
सोचा ना था कभी ऐसी दोस्ती होगी


जिंदगी को गमले के पौधे की तरह मत बनाओ जो
जो थोड़ी सी धूप लगने पर मुरझा जाये….
जिंदगी को जंगल के पेड़ की तरह बनाओ जो हर परिस्तिथि में मस्ती से झूमता रहे


सारी सृष्टि है मस्ती में, बस एक मनुज है दुखी यहाँ।
थोड़ा-सा बोध जगाओ तो,हो सकते हो चिर सुखी यहाँ।
अब मस्त जरा रहना सीखो,बस थोड़ा-सा बहना सीखो।


हिंदी मौज मस्ती वाली शायरी

हिंदी मौज मस्ती वाली शायरी

बाहर से तो रौनक आज भी वही है मगर,
इस इश्क ने अन्दर से जलाया है बहुत कुछ


फूल सबनम में डूब जाते है
झख्म मरहम में डूब जाते है |
जब आते है खत तेरे |
हम तेरे गम में डूब जाते है


खिड़की से झाँक के देखा तो रास्ते में कोई नहीं था,
खिड़की से झाँक के देखा तो रास्ते में कोई नहीं था,
वाह वाह… फिर रास्ते में जा कर देखा…
तो खिड़की पर कोई नहीं था।


पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,
दिल में क्या है वो बात नही समझती,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती


दोस्तो हम उन्हें मुड़ मुड़कर देखते रहे,
और वो हमें मुड़-मुड़ कर देखते रहे,
वो हमें हम उन्हें, वो हमें हम उन्हें,
क्योंकि परीक्षा में न उन्हें कुछ आता था न हमे


ट्विंकल ट्विंकल लिटिल स्टार,
तेरी गर्लफ्रेंड गई बाजार,
उसको मिल गया दूसरा यार,
उसके संग वो हो गई फरार,
अब तू बैठ के मक्खी मार।


हम आप को कभी खोने नहीं देंगे .
जुदा होना चाहा तो भी होने नहीं देंगे .
चाँदनी रातों में आएगी मेरी याद .
तो मेरी याद के वो पल आप को सोने नहीं देंगे


कोई अछी सी सज़ा दो मुझको
चलो भुला दो मुझको.
तुमसे दोस्ती टूटे उस दिन मौत आ जाए मुझको
दिल की गहराइयों से दुआ दो मुझको


चाहने से कोई चीज़ अपनी नही होती,
हर मुस्कुराहट खुशी नही होती,
अरमान तो भूख होती है दिल मे,
मगर कभी वक़्त तो कभी किस्मत सही नही होती


हमारी किसी बात से खफा मत होना,
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना.
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना


हम ने तो उसकी हर ख्वाहिश
पूरी करने का वादा किया था..
पर हमें क्या पता था की हमें छोडना भी
उसकी एक ख्वाहिश होगी.


कदर करलो उनकी जो तुमसे
बिना मतलब की चाहत करते हैं…
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम और
तकलीफ देने वाले ज़्यादा होते है.


जो लम्हा साथ हैं
उसे जी भर के जी लेना.
कम्बख्त ये जिंदगी.
भरोसे के काबिल नहीं होती


ख्वाइस तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये |
शमा खामोस हो जाये और शाम ढल जाये
प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये |
और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये

Other Posts:-

Funny Shayari
Comedy shayari |Funny shayari hindi
Marriage Shayari Funny

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *