India Shayari

20210930 201150 11zon

[ Top 149+] Manane Wali Shayari | रूठना मनाना शायरी

Hello, Friends Are You Looking For Manane Wali Shayari. So Today We Have Brought the Best Collection Of रूठना मनाना शायरी. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Manane Wali Shayari Image, Naraz Ko Manane Ki Shayari, Ruthe Ko Manana Shayari, रूठे यार को मनाने की शायरी, Manane Ke Liye Shayari, Ruthe Ko Manane Wali Shayari, Shayari Manane Ke Kiye Etc. Also, Share These With Your Friends.

Manane Wali Shayari

Manane Wali Shayari

उससे, खफ़ा होकर भी देखेंगे, एक दिन

कि, उसके मनाने का अंदाज़ कैसा है.


तुम हँसते हो मुझे हँसाने के लिए
तुम रोते हो तो मुझे रुलाने के लिए
तुम एक बार रूठ कर तो देखो
मर जायेगे तुम्हें मनाने के लिए


खता हो गयी तो फिर मुझे सज़ा
सुना दो दिल में इतना दर्द क्यूँ है
ये वजह बता दो देर हो गयी याद
करने मे मुझे जरूर लेकिन तुमको
भुला देगे ये ख्याल तो मिटा दो


दिल से तेरी याद को मैंने जुदा तो नही किया
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नही किया
हम से तू नाराज़ है किस लिये बता तो जरा
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया


आज तो मैने खुद से एक वादा
किया है माफ़ी मागूगा तुझसे यह
तुझे रुसवा किया है हर मोड़ पर
रहूँगा मै तेरे साथ साथ अनजाने मे
तो मैने तुझको बहुत दर्द दिया है


सारी उम्र करते रहे इंतज़ार तेरे
रुठने का कभी तो मौका दिया
होता तूने मनाने का उन्हे रूठने
मे वक़्त नही लगता मेरे पास
वक़्त नही मनाने को


कब तक रह पाओगे आखिर यूँ दूर हमसे
मिलना पड़ेगा कभी न कभी ज़रूर हमसे
नज़रें चुराने वाले ये बेरुखी है कैसी
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हम से


बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से


बात न करने की हमे
कोई वजह नही दे रहे हो
पता नही हमे रूठने की
सजा क्यो दे रहे हो


तू जो रूठ्ने लगा है
दिल टूटने लगा है
अब सब्र का भी दामन
मुझसे छूटने लगा है


यहाँ जरुरतो के हिसाब से सब
बदलते नकाब है अपने गुनाहो
पर सौ पर्दे डालकर हर शख़्स
कहता है साला जमाना बड़ा ख़राब है


रूठना मनाना शायरी

रूठना मनाना शायरी

मोहब्बत आजमानी हो तो बस इतना ही काफी है,

जरा सा रूठ कर देखो मनाने कौन आता है


कब तक रह पाओगे आखिर यूँ दूर हमसे
मिलना पड़ेगा कभी न कभी ज़रूर हमसे
नज़रे चुराने वाले ये बेरुखी है कैसी
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हमसे !

kab tak Rahoge Aakhir Nu Dur
Humse Milana padega Kabhi Na
Kabhi Jarur Hum Se Nazre Churane
Wale yah bhairu Ki Hai Kaisi bahut
do Agar Hua Hai Koi Kasoor Humse


तू एक नज़र हम को देख ले बस
इस आस में कब से बेकरार बैठे है 

Tu Ek Najar Humko dekh
le bus is Baat Mein Kab
Se Bekarar Baithe Hain


हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया 

ho sakta hai Humne aapko Kabhi
Rula Diya aapane To Duniya Ke
Kahane per Hamen Bhula Diya
Ham to vaise bhi Akela Se
Is Duniya Mein Kya Hua
Agar aapane Ehsas Dila Diya


मान जाना मेरी जान और
कितना हमे रुलायेगी रह
नहीं सकते बात किये बिना
और कितना हमें तड़पाएंगी 

man Jaan O Meri Jaan aur
Kitna Hamen ruailegi Raha
Nahin Sakte Baat kiye Bina
aur Kitna Hamen tadpayegi


वो मेरे कुछ अपने ही थे
जो आग लगाकर देखने
आए कुछ बचा तो नही 

vah Mere Kuchh Apne Hi the
Jo Aag Laga Kar Dekh Le
Aaye Kuchh bacha To Nahin


हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं
पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना !

Humse Koi Khata Ho Jaaye to
Maaf Karna Ham Yad Na Kar
Paye to Maaf Karna Dil Se To
Ham aapko Kabhi bolate Nahin per
yah Dil Ki ruk Jaaye to Maaf Karna


हिम्मत तो इतनी थी कि
समुद्र भी पार कर सकते
थे मजबूर इतना हुए कि दो
बुंद आंसूओं ने डुबा दिया !

Himmat Tu Itni thi ki Samudra
Paar kar sakte the majbur Itna Ki
Do Boond Aansu Ne dhoka diya


निकला करो इधर से भी होकर कभी कभी
आया करो हमारे भी घर पर कभी कभी
माना कि रूठ जाना यूँ आदत है आप की
लगते मगर हैं अच्छे ये तेवर कभी कभी !

nikala karo idhar se bhi Upar
Kabhi Kabhi Aaya Karo Hamare
bhi ghar per kabhi kabhi Mana ki
Ruth Jana Na Yun Aadat hai aapki
Magar acche Thevar Kabhi Kabhi


आज मांगता हूँ मे
अपने प्यार का इन्साफ
हो गयी गलती मुझसे
PLEASE करदो ना माफ़ 

Aaj Hun Main Apne pyar ka
Insaaf Ho Gayi Galti Mujhse
please kar do na Maaf


बिगड़ी हुए समय को
सवारने में लगा हूँ
मेरी जान मुझसे रूठी है
उसे मनाने में लगा हूँ !

bigadi Hui Sumerpur Hamare
main Laga Hun Meri Jaan
Mujhse ruthi Hai use
manane Mein Laga hoga


तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी
तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी
क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी 

Tum Khafa Ho Gaye to Koi
Khushi na Rahegi tumhare
bina Chirag on Mein Roshani
na Rahegi Kya Kahen kya
gujregi Is Dil per per Jinda
to Roj per zindagi Na Rahegi


होठो पे वही ख़्वाहिशे आँखो मे
हसीन अफ़साने है तू अब भी एक
मदहोश गज़ल हम अब भी तेरे दीवाने है !

Hothon pe Badi Khwahish Ki
Aankhon Mein Haseena khane
Hain To Ab Bhi Ek Madhosh Gazal
Ham Ab Bhi Tere Deewane Hain


Naraz Ko Manane Ki Shayari

Naraz Ko Manane Ki Shayari

जिंदगी जीने के लिये वक्त हैं बहोत ही कम

और तुम्हें रुठने मनाने का खेल पसंद हैं


खत्म कर दिया किस्सा, अब रुठने मनाने का

सुना है वो शख्स हैरान है, मेरे इस रवैये से


वो रूठे तो सही हम मनाने का वादा करते है,

दिल तोडना है मेरा तो बेशक तोड़ दे वो इस दिल के बिना भी हम उनको चाहने का वादा करते है


मेरी ज़िन्दगी में खुशियाँ तेरे बहाने से हैं

आधी तुझे सताने से हैं आधी तुझे मनाने से हैं


नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की

पता नहीं कहां से सीखी जालिम ने अदाएं रूठ जाने की


इस कदर हम यार को मनाने निकले उसकी चाहत के हम दिवाने निकले

जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले


ये रुठने मनाने के सिलसिले बड़े ही प्यारे होते है 

तुमसे मिलने परही ये बात जानी हमने


जिंदगी जीने के लिये वक्त हैं बहोत ही कम

और तुम्हें रुठने मनाने का खेल पसंद हैं


यूँ तो प्यार की हर अदा निराली हैं

पर रुठने मनाने की अदा सबसे आली हैं


रुठने मनाने के फलसफे से तंग आ गया हूँ,

ऐसा कर ए मोहब्बत, अब तू मेरा हिसाब कर दे.


शहर में वो मजा नही है

क्योकि तेरी रुठने मनाने की सज़ा नही है


आज खुद को भुलाने को जी कर रहा है, बेवजह रूठ जाने को जी कर रहा है,

तुम्हे वक़्त शायद मिले न मिले, आज खुद को मनाने को जी कर रहा है


कितनी बातें, जो आती आधी रात कहने को तुम्हे…

उन् ख्वाबो में जिनमे तू करती बात, मुझे मनाने की कभी ना छोड़ के जाने की


सोच रखी है बहुत सी बातें तुम्हे सुनाने के लिए

लेकिन तुम हो के आते ही नही हमे मनाने के लिए


तुम हंसती हो मुझे हसाने के लिए,तुम रोती हो मुझे रुलाने के लिए।

एक बार तो रुठ के देखो,मर जाएंगे तुम्हे मनाने के लिए।


तुम रूठो तो तुम्हे मनाने आ जाएंगे

कई हम रूठे भी तो बताओ किस के भरोसे


Manane Wali Shayari In Hindi

Manane Wali Shayari In Hindi

हर एक पल उनकी याद में बिताते है
जान निकल जाती है जब वो रूठ जाते है


रब रुठे चाहे सारा जग छूट जाए,
मेरे यार तुम ना रूठ जाना,
ज़िन्दगी भर साथ देने का वादा करके,
मेरा साथ ना छोड़ जाना


फरियाद सुनता नहीं मेरी,
रब भी हमसे रुठ गया,
तू रूठा जबसे,
मेरी किस्मत का तारा टूट गया


छोटी छोटी बातों पे जो
रूठ जाते है,
सच कहते है दुनिया वाले,
वो बड़े बेरहम होते है


तू रूठा तो मेरी किस्मत रूठ जाएगी,
मोहब्बत की कहानी,
शुरू होने से पहले,
खत्म हो जाएगी


रूठ जाने से पहले,
मेरी मोहब्बत को याद कर लेना,
गुसा कम ना हुआ तो,
दूर जा कर देख लेना,
तुझे मेरी मोहब्बत मेरे पास ले आएगी,
दूर जा कर मुझसे,
चैन से ना रह पाएगी


वादा है तुमसे,
तेरा साथ निभाउंगा,
रूठ कर तुमसे,
कभी दूर ना जाउँगा,


यकीं नहीं मुझ पे,
जो तुम मुझे छोड़ गए,
कौनसी खता हुई हमसे
जो तुम हमसे रूठ गए


होते होते मोहब्बत हो गई,
अब मुझे छोड़ के दूर ना जाना,
हमसे कोई गलती हुई तो
मुझे माफ़ कर देना


ना कर हमको बेक़रार,
यूँ हमसे रुठ कर ना जा,
दिल के अरमान ऐसे,
तोड़े कर ना जा


रुक जा सनम,
यूँ रूठ के ना जा,
तुझे मेरी है कसम,
लौट के वापस आ


यारों की यारी पे कभी शक नहीं करते,
छोटी छोटी बातों से,
दूर नहीं हुआ करते


रूठ कर यार कभी दूर नहीं होते,
जरुरत जब भी पड़ी,
बोलने से पहले,
यार साथ है होते खड़े,


दर्द दिल का, यारों को पता होता है,
दूर होने का गम क्या होता है,
यारों को पता होता है,


यार मेरे तू मुझसे ना रूठ जाया करो,
मेरा दिल नहीं लगता तेरे बिना,
मुझसे दूर ना जाया करो


नहीं करते तुम से मोहब्बत,
जे सोच ना लेना,
हमसे खफा हो कर,
दूर ना हो जाना


टूटी किस्मत को
सवारने में लगा हु
मेरी जान मुझसे रूठी है
मै मनाने में लगा हु।


बोहोत उदास है हम तेरे जाने से
तू लोटकर आजा किसी बहाने से
तू चाहे लाख खफा हो पर जान ले
मैं बिखर गया हू तेरे रूठ जाने से।


मेरी याद में बस तुम हो
मेरे ख्यालो में बस तुम हो
दिल धड़कता है बस आपके लिए
क्योकी मेरी जान में बस तुम हो।


रोया हु कई बार
मगर किसी को दिखाया नहीं
बोला है कई बार
मगर तुझे समझ आया नहीं।


नराज़गी भी एक प्यार है
तेरे हिस्से की सारी बातें
बचा रखी हैं
जब भी शहर खुलेगा तो
हम दोनो खुल कर
बातें करेंगे।


2021 रूठना मनाना शायरी

2021 रूठना मनाना शायरी

तू एक नज़र हम को देख ले बस
इस आस में कब से बेकरार बैठे है


हमें तो रूठने का सलीका भी नहीं आता
जाते-जाते खुद को उसके पास ही छोड़ आये


रूठनें का लुत्फ़ आया ही नहीं,
आप पहले ही मनाने आ गए


जंग न लग जाये मोहब्बत को कहीं
रूठने मनाने के सिलसिले जारी रखो


उन्हें रूठने में वक़्त नहीं लगता
मेरे पास वक़्त नहीं मानाने को


हर बार रिश्तों में और भी मिठास आई है,
जब भी बाद रूठने के तू मेरे पास आई है


तुम रूठो तो तुम्हे मनाने आ जाएंगे
कई हम रूठे भी तो बताओ किस के भरोसे


यूँ तो प्यार की हर अदा निराली हैं
पर रुठने मनाने की अदा सबसे आली हैं


नाराज़गी नहीं है कोई मै किससे
शिकायत करूँ


साँसे थम सी गई हैं तुम्हारे जाने से,
अब लौट भी आओ किसी बहाने से


रूठने-मनाने का, सिलसिला कुछ यू हुआ।
मान गया था मगर, फिर रूठने का दिल हुआ।


उससे, खफ़ा होकर भी देखेंगे, एक दिन..
कि, उसके मनाने का अंदाज़ कैसा है.


बिगड़ी हुई तक़दीर को सवारने में लगा हूँ,
मेरी खुशी मुझसे रूठी है, में मानाने में लगा हूँ


यकीन नहीं तो आजमाके देख ले,
दर्द तेरी जुदाई का है, तू पास आके देख ले


नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की
पता नहीं कहां से सीखी जालिम ने अदाएं रूठ जाने


ज़माने से रुठने की जरूरत ही क्यों हो
जब मेरे अपने ही मेरे बने रकीब हो


हर घड़ी का ये बिगड़ना नहीं अच्छा ऐ जान
रूठने का भी कोई वक़्त मुक़र्रर हो जाए


जो वादा किया, वो वादा पूरा कर जाना,
मेरी मौत के आखरी पल तक, साथ निभा जाना


रूठने-मनाने का, सिलसिला कुछ यू हुआ।
मान गया था मगर, फिर रूठने का दिल हुआ


छोटी छोटी बातों पे जो रूठ जाते है,
सच कहते है दुनिया वाले, वो बड़े बेरहम होते है


और कितना दर्द का एहसास दीलौंगे मुझे
शायद अभी तक तसल्ली नहीं हुई होगी तुझे


Latest Naraz Ko Manane Ki Shayari In Hindi

Latest Naraz Ko Manane Ki Shayari In Hindi

ज़माने से रुठने की जरूरत ही क्यो है
जब मेरे अपने ही मेरे बने रकीब है


Dil kabse tadap raha hai
Aapke ek alfaaz ke liye
Tod bhi do ye khamoshi
Mujhe zinda rakhne ke liye..


दिल कबसे तड़प रहा है
आपके एक अल्फाज़ के लिए
तोड़ भी दो ये खामोशी
मुझे जिंदा रखने के लिए।


Har baar meri zindagi mee
Mithaas aati hai
Jab tu ruthne ke baad mere
Paas aati hai


हर बार मेरी जिंदगी में
मिठास आती है
जब तू रूठने के बाद मेरे
पास आती है।


Kitna suna lagta hai
Jab chand ho aur taare nahi
Ussi tarah zindagi ho
Aur uss mee tum nahi.


कितना सुना लगता है
जब चांद हो और तारे नहीं
उसी तरह जिंदगी हो
और उस में तुम नहीं।


Tu ruth jaata hai toh
Dil tut jaata hai
Bata kaise sambhaalu
Mai khud ko
Tere bina mera aks mujhse
Dur ho jaata hai.


तू रूठ जाता है तो
दिल टूट जाता है
बता कैसे संभालु
मै खुद को
तेरे बिना मेरा अक्स मुझसे
दूर हो जाता है।


Meri zindagi mee khushiyaa
Tere bahaane se hai
Aadhi tujhe sataane se hai
Aur aadhi tujhe manane se hai..


मेरी जिंदगी में खुशिया
तेरे बहाने से है
आधी तुझे सताने से है
और आधी तुझे मनाने से है।


मान जो ना मेरी जान और
कितना हमें रुलायेगी,
रह नहीं सकते बात किये बिना
और कितना हमें तड़पाएंगी


maan jo na meree jaan aur
kitana hamen rulaayegee,
rah nahin sakate baat kiye bina
aur kitana hamen tadapaengee.


धड़कन बनके जो दिल में समा गए हैं,
आंसू निकल आये जब वो याद आ गए,


dhadakan banake jo dil mein sama gae hain,
aansoo nikal aaye jab vo yaad aa gae,


तुम्हारी हर अदा है सबसे नियारी,
जब रूठ जाती हो तुम
तो लगती हो बहुत प्यारी |


tumhari har ada hai sabase niyaaree,
jab rooth jaatee ho tum
to lagatee ho bahut pyaaree.


तुम रूठ गए तो हम मनाने आ जाएंगे
आप पर हम अपना हक़ जिताने आ जायेंगे |


tum rooth gae to ham manaane aa jaenge
aap par ham apana haq jitaane aa jaayenge.


सांसे रुक सी गई है आपके जाने से,
अब लौट भी आओ मेरी जान किसी बहाने से।


saanse ruk see gaee hai aapake jaane se,
ab laut bhee aao meree jaan kisee bahaane se


हर एक पल उनकी याद में बिताते हैं,
जान निकल जाती है जब वो रूठ जाते हैं।


har ek pal unakee yaad mein bitaate hain,
jaan nikal jaatee hai jab vo rooth jaate hain.


उनका नाराज़ होना भी हसीन लगता हैं
कही दूर न चले जाये इसका भी डर लगता हैं

Unka naraz hona bhi haseen lagta hai
Kahi dur na chale jaye iska bhi dar lagta hai


छोड़ो ये गुस्सा चलो कुछ इश्क़ के गीत गाते हैं
हमेशा याद रह जाये कुछ ऐसा कर जाते हैं

Chodo ye gussa chalo kuch Ishq k geet gaate hai
Hamesha yaad reh jaye kuch aisa kar jate hai


बहाने बनाना कोई उनसे सीखे, बनाकर मिटाना कोई उनसे सीखे,
सबब रूठने का भी होता है लेकिन, यूं ही रूठ जाना कोई उनसे सीखे !

Bahane banana koi unse sikhe, Banakar mitana koi unse sikhe,
Sabab ruthane ka bhi hota hai Lekin, yu hi ruth jaana koi unse sikhe


उससे, खफ़ा होकर भी देखेंगे, एक दिन..
कि, उसके मनाने का अंदाज़ कैसा है..!

Usse Khafa hokar bhi dekhenge ek din ..
Ki uske manane ka andaaz kaisa hai


नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की
पता नहीं कहां से सीखी जालिम ने अदाएं रूठ जाने की

Nakaam thi meri sab koshishe usko manane ki
Pata nahi kaha se sikhi Zaalim ne adaaye rooth jaane ki


मेरी ज़िन्दगी में खुशियाँ तेरे बहाने से हैं….
आधी तुझे सताने से हैं आधी तुझे मनाने से हैं…

Meri Zindagi Mein Khushiya Tere Bahane se hai …
Aadhi Tujhe Satane se hai .. Aadhi Tujhe Manane se Hai


मोहब्बत आजमानी हो तो बस इतना ही काफी है,
जरा सा रूठ कर देखो मनाने कौन आता है

Mohabbat Aazmaani ho toh bas itna hi kaafi hai,
Zara sa ruth kar dekho, Manane Kaun aata hai


उससे, खफ़ा होकर भी देखेंगे एक दिन.. कि,
उसके मनाने का अंदाज़ कैसा है.

Usse, Khafa hokar bhi Dekhenge, Ek din ki,
Uske Manane ka Andaaz Kaisa hai


नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की ,
पता नहीं कहां से सीखी जालिम ने अदाएं रूठ जाने की

Nakaam thi mein sab Koshishe us ko Manane ki,
Pata nahi kaha se sikhi Zaalim ne Aadaye Ruth Jaane ki


खत्म कर दिया किस्सा, अब रुठने मनाने का..
सुना है वो शख्स हैरान है, मेरे इस रवैये से..

Khatam kar diya Kissa Ab Ruthne Manane ka ..
Suna hai woh Saqsh Hairaan hai, Mere is Ravaiye se


रूठने का हक़ है तुझे, वजह बताया कर।
ख़फ़ा होना गलत नही, तू खता बताया कर।

Ruthne Ka Haq hai Tujhe, Wajah bataya kar
Khafa Hona Galat nahi, Tu Khata Bataya Kar


नया नया शौक उन्हें रूठने का लगता है,
खुद ही भूल जाते हैं रूठे थे किस बात पर..

Naya Naya Shauk Unhe Ruthne Ka Lagta hai,
Khud hi Bhul Jaate hai Ruthe the Kis baat par


रूठने का हक़ है तुझे, वजह बताया कर।
ख़फ़ा होना गलत नही, तू खता बताया कर।

Ruthne ka haq h tujhe, wajah bataya kar.
Khafa hona galat nhi, tu khata bataya kar


सोच रखी है बहुत सी बातें तुम्हे सुनाने के लिए
लेकिन तुम हो के आते ही नही हमे मनाने के लिए

Soch rakhi hai bahut se baatein tumhe sunane k liye 
Lekin Tum Ho k aate hi nahi Hame Manane ke liye


अगर कटती हें उम्र तुम्हे मनाने मे, तो कट जाने दो,
वैसे भी बिन तुम्हारे जिंन्दगी भी कंहा जिंदगी हें।

Agar Katati hai Umar tumhe Manane mein, To Kat Jaane do,
Waise bhi bin Tumhare Zindagi bhi Kaha Zindagi hai


Other Posts :-

Kasam Shayari | Kasam Todne Wali Shayari
Khafa Shayari | Khafa Shayri In Hindi
Shikayat Shayari In Hindi | शिकायत भरी शायरी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *