India Shayari

20210711 111348

[ 80+] Majboori Shayari | Shayari On Majboori | मजबूरी शायरी

Hello, Friends Are You Looking For Majboori Shayari. So Today We Have Brought the Best Collection Of Shayari On Majboori In Hindi. Also, Share These With Your Friends.

Majboori Shayari In Hindi

Majboori Shayari In Hindi

किसी की मजबूरी कोई समझता नहीं,
दिल टूटे तो दर्द होता है मगर कोई कहता नहीं.

**************************************

ये न समझ के मैं भूल गया हूँ तुझे,
तेरी खुशबू मेरी सांसो में आज भी है,
मजबूरी ने निभाने न दी मोहब्बत ,
सच्चाई तो मेरी वफ़ा में आज भी है.

**************************************

मजबूरी में जब जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं के वो बेवफा होता है,
दे कर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है.

**************************************

आप दिल से यूँ पुकारा ना करो,
हमको यूँ प्यार से इशारा ना करो,
हम दूर हैं आपसे ये मजबूरी है हमारी,
आप तन्हाइयों मे यूँ रुलाया ना करो.

**************************************

मिलना एक इत्तेफ़ाक है,
और बिछड़ना मजबूरी है,
चार दिन की इस जिन्दगी में
सबका साथ होना जरूरी है.

**************************************

कभी गम तो कभी ख़ुशी देखी,
हमने अक्सर मजबूरी और बेकसी देखी,
उनकी नाराज़गी को हम क्या समझें,
हमने तो खुद अपनी तकदीर की बेबसी देखी.

**************************************

उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है,
उनसे नहीं कहे पाना हमारी मजबूरी है,
ओ क्यों नही समझते हमारी ख़ामोशी को
क्या प्यार का इजहार करना जरूरी है.

**************************************

एक ही समझती है मजबूरी हमारी,
वो है तुम्हारी भाभी,
हम दोनों की किश्मत की उनके
हाथ में है चाभी. राज की गहराई आँखों में उतर आई,

**************************************

कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे है हल्के हल्के
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफ़ाई.

**************************************

क्या थी मजबूरी तेरी,
जो रस्ते बदल लिए तूने,
हर राज कह देने वाले,
क्यों इतनी सी बात छुपा ली तूने.

**************************************

Emotional Shayari On Majboori

Emotional Shayari On Majboori

मैं मजबूरियां ओढ़ कर निकलता हूँ घर से आज कल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगने का

**************************************

अगर मोहब्बत नही थी तो बता दिया होता
तेरे एक चुप ने मेरी ज़िन्दगी तबाह कर दी

**************************************

तसल्ली से पढा होता तो समझ मे आ जाते हम
कुछ पन्ने. बिना पढे ही पलट दिये होग तुमने

**************************************

जिन्दगी भी तवायफ की तरह होती है,
कभी मजबूरी में नाचती है, कभी मशहूरी में.

**************************************

मुलाकातें तो आज भी हो जाती है तुमसे,
मेरे ख्याल किसी मजबूरी के मोहताज नहीं.

**************************************

नफरतें बेचने वालों की भी मजबूरी है,
माल तो चाहिए दुकान चलाने के लिए

**************************************

मजबूरी में जब जुदा होता है,ज़रूरी नहीं के वो बेवफा होता है,

दे कर वो आपकी आँखों में आँसू,अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है।

**************************************

कोई मजबूरी होगी जो वो याद नहीं करते,
सम्भल जा ऐ दिल तुझे तो रोने का बहाना चाहिए।

**************************************

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है

रहते रहते स्टेशन पर लोग क़ुली हो जाते हैं

**************************************

2 Line Majboori Shayari

2 Line Majboori Shayari

नफरतें बेचने वालों की भी मजबूरी है,
माल तो चाहिए दुकान चलाने के लिए.

**************************************

उन के सितम भी कह नहीं सकते किसी से हम
घुट घुट के मर रहे हैं अजब बेबसी से हम

**************************************

थके लोगों को मजबूरी में चलते देख लेता हूँ
मैं बस की खिड़कियों से ये तमाशे देख लेता हूँ

**************************************

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है
रहते रहते स्टेशन पर लोग क़ुली हो जाते हैं

**************************************

ज़िन्दगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ !
मगर किसी के हालात और मजबूरी का नहीं !!

**************************************

कोई ठुकरा दे तो हँस कर जी लेना
क्युकी मोहब्बत की दुनिया में जबरजस्ती नही होती

**************************************

खामोशी समझदारी भी है और मजबूरी भी…
कहीं नज़दीकियां बढ़ाती है और कहीं दूरी भी…

**************************************

उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है,
उन से कह न पाना हमारी मजबूरी है,
वो क्यू नै समझते हमारी खामोशी को,

**************************************

Break up Shayari On Majboori

Break up Shayari On Majboori

हम तुम में कल दूरी भी हो सकती है
वज्ह कोई मजबूरी भी हो सकती है

**************************************

सब गुलाम है अपने हालातों के यहाँ,

बेचैन आँखे सोती नहीं रातों में यहाँ।

**************************************

बहाना कोई तो ऐ ज़िंदगी दे कि

जीने के लिए मैं भी मजबूर हो जाऊँ।

**************************************

– ये मोहोब्बत है मजबूरी नहीं

इसे ज़रा दिल से कीजिएगा।

**************************************

किसी गिरे इंसान को उठाने आएं ना आए

ये ज़माने वाले मजबूरी में पड़े इंसान का फायदा उठाने ज़रूर आएँगे।

**************************************

ऐसी भी क्या मजबूरी आ गई जनाब

की आपने हमारी चाहत का कर्ज़ा धोका दे कर चुकाया।

**************************************

शायद इसी को कहते हैं मजबूरी-ए-हयात,
रुक सी गयी है उम्र-ए-गुरेजन तेरे बगैर।

**************************************

नाकाम हैं असर से दुआएँ दुआ से

हम मजबूर हैं कि लड़ नहीं सकते ख़ुदा से हम

**************************************

बहाना कोई तो ऐ ज़िंदगी दे

कि जीने के लिए मजबूर हो जाऊँ

**************************************

Hopeless Majboori Shayari

Hopeless Majboori Shayari

जितनी हिरनी की दूरी है ख़ुद अपनी कस्तूरी से,
उतनी ही दूरी देखी है इच्छा की मजबूरी से,

**************************************

जब इंसान किसी रिश्ते को मज़बूरी में निभाने लग जाता है,

तब उसके लिए वो रिश्ता सिर्फ सिर दर्द बनकर रह जाता है।

**************************************

फायदा नहीं उन आँखों का कोई

जो अपने फायदे के आगे किसी की मजबूरी ना देख सके।

**************************************

कौन कहता है वक़्त किसी का नहीं होता,

मैने मेरे ही वक़्त को मुझे बर्बाद करते देखा है।

**************************************

लड़को की ज़िन्दगी आसान कहाँ साहब

ख्वाहिशे मर जाती है उनकी ज़िम्मेदारियों के नीचे आ कर।

**************************************

बेबसी किसे कहते हैं ये पूछो उस परिंदे से

जिसका पिंजरा रखा भी तो खुले आसमान के तले।

**************************************

बहाना कोई तो ऐ ज़िंदगी दे,
कि जीने के लिए मजबूर हो जाऊँ.

**************************************

कह तो सकता हूँ मगर मजबूर कर सकता नहीं,
इख़्तियार अपनी जगह है बेबसी अपनी जगह

**************************************

आती जाती साँसों सी कट रही है ज़िन्दगी,
साँस लेना ज़िन्दगी की मज़बूरी हो जैसे.

**************************************

Related Posts :-

Heart Touching Sorry Shayari In Hindi

Heart Breaking Judai Shayari

Heart Breaking Dhoka Shayari in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *