India Shayari

20210711 130931

[120+Latest] Khawahish Shayari | Shayari On Khawahish | ख्वाहिश शायरी

Hello, Friends Are You Looking For Khawahish Shayari. So Today We Have Brought the Best Collection Of Shayari On Khawahish. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Teri Khawahish Shayari, Adhuri Khawahish Shayari , 2 Line Khawahish Shayari, Dil Ki Khawahish Shayari Etc. Also, Share These With Your Friends.

Teri Khawahish Shayari

Teri Khawahish Shayari

मेरी ख़्वाहिश है कि फिर से मैं फ़रिश्ता हो जाऊँ
माँ से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊँ

******************************************

ख्वाहिश तो बस अब यही है आंख खुले
तो तेरा साथ हो
आंखे अगर बन्द हो तो तेरा ही ख्वाब हो ।।

******************************************

मेरी चाहत ये कैसी है कि कभी मिटती ही नही
देख लिया तुझे जी भर के फिर भी नज़र तुझसे हटती नही

******************************************

चहरे पर कभी उदासी ना रहे तुम्हारी
इसलये कुछ ख्वाहिशें मैंने अपने दिल मे दफना दिए

*****************************************

मोहब्बत की उम्र भी बड़ी लंबी होती है
ज़माना बीत जाता है किसी की ख्वाहिश मैं ।

******************************************

ऐसा नही की , मेरे इन्तजार की उन्हे खबर नही ,
लेकिन तड़पाने की आदत तो उनकी फितरत में शुमार है ।

******************************************

तड़प रहे है हम तुमसे एक अल्फाज के लिए ,
तोड़ दो खामोशी हमें जिन्दा रखने के लिए ।

******************************************

ये मत समझ की तेरे काबिल नही है हम ,
तड़प रहे है वो जिसे हासिल नही है हम

******************************************

जब मिल जाओ तो तुम हमे ,हम ख्वाब देखना छोड़ देंगे
तुझे पाने की ख्वाहिश मैं हम दुनिया से रिश्ता तोड़ देंगे ।।

******************************************

Adhuri Khawahish Shayari

Adhuri Khawahish Shayari

मेरे टूटने की वजह मेरे जोहरी से पूछो
उस की ख्वाहिश थी कि मुझे थोडा और
तराशा जाये.!!

******************************************

शायद उम्मीदें ही होती हैं ग़म की वजह,,,,
वरना ख़्वाहिशें रखना कोई गुनाह नही

******************************************

अब की बार, अजीब सी ख्वाहिश जगी है
कोई मुझे टूट कर चाहे और,मै बेवफा निकलू

******************************************

मेंरी हर ख्वाहिश पूरी हो गई
जब से उन्होंने कहा मैं तुम्हारा हू

******************************************

ख़्वाहिश ये नही की तुम मुझे बेपनाह प्यार करो
चाहत इतनी है की बस तुम महसूस तो करो

******************************************

मेरे टूटने की वजह मेरे जोहरी से पूछो….
उस की ख्वाहिश थी कि मुझे थोडा और
तराशा जाये.

******************************************

तू इन्तजार में तड़प तो सही ,
की एक बार धड़क तो सही । 

******************************************

दिन भी ठीक से नही गुजरता और रात भी बड़ी तड़पाती है ,
क्या करूं यार तेरी याद ही जो इतनी आती है

 

******************************************

2 Line Khawahish Shayari

2 Line Khawahish Shayari

ख़्वाहिश ये नहीं की तारीफ़ हर कोई करे
कोशिश ये ज़रूर है की कोई बुरा ना कहे

******************************************

दोस्ती समेट ले जाती है जमाने भर के रंज को
सुना है यार अच्छे हो तो कांटे भी नहीं चुब्ते

******************************************

ज्यादा ख्वाहिशें नही
जिंदगी का हर लम्हा तेरे साथ हो !!

******************************************

किसी के अंदर जिंदा रहने की ख्वाहिश में …
हम अपने अंदर मर जाते हैं .

******************************************

ख्वाहिश यही है की ,मेरी शायरी तुम समझो
जरुरी नहीं की ,लोग “वाह वाह करें !!

******************************************

तुझे बाहों में लेकर ये सारा जहान
भूल जाने की ख्वाहिश है मेरी

******************************************

मेरी ख्वाहिश है की मैं फिर से फरिश्ता हो जाऊं,
”माँ ” से इस तरह लिपट जाऊं की बच्चा हो जाऊं

******************************************

कैसे चुकाऊं किश्तें ख्वाहिशों की,
मुझ पर तो ज़रुरतों का भी एहसान चढा हुआ है…

******************************************

Dil Ki Khawahish Shayari

Dil Ki Khawahish Shayari

टूटा हुआ दिल कभी हमारा नही होता,
जिन्दगी में ख्वाहिशों का किनारा नही होता

******************************************

दिन ख्वाहिशों में गुजरता है
रात ख्यालों में कटती है
शाम का आलम ना पूछो
मायकादे जाओगे तो समझ पाओगे

******************************************

एक ख्वाहिश है मेरी लंबी सड़क
हल्की बारिश बहुत सारी बातें
और बस हम और तुम

******************************************

अब तो ख्वाहिश है कि यह
जख्म भी खा कर देखे,
लम्हा भर को ही सही मगर
उसको भुला कर देखें.

******************************************

नही है ये ख्वाहिश कि इस
जहां या उस जहाँ में पनाह मिले,
बस इतना करम कर ऐ खुदा,
कोई ऐसा मिले जिससे प्यार बेपनाह मिले

******************************************

कुछ ख्वाहिशें है अधूरी
कुछ अधूरे से हम
वक्त बीता उम्र बीती
ना ख्वाहिशें हो सकी पूरी 
ना पूरे हुए हम.

******************************************

ज़िन्दगी ने मेरे मर्ज का
एक कारगर इलाज बताया
वक़्त को दवा कहा और
ख्वाहिशो का परहेज़ बताया

******************************************

हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है
क्या ज़रूरत थी तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की

******************************************

दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ,
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ,
दिल में दर्द नहीं, उसकी यादें हैं,
अब यादें ही दर्द दे, तो उसे इल्ज़ाम क्या दूँ

******************************************

तमन्नाओ से भरी हो जिंदगी,
ख्वाहिशों से भरा हो हर पल,
दामन भी छोटा लगने लगे,
इतनी खुशियां दे आपको आने वाला कल…

******************************************

उसने मुझसे ना जाने क्यों ये दूरी कर ली,
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी,
मेरे मुकद्दर में दर्द आया तो क्या हुआ,
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी…

******************************************

हो पूरी दिल की हर ख्वाहिश आपकी,
और मिले खुशियों का जहाँ आपको,
जब कभी आप मांगे आसमान का एक तारा,
तो भगवान् दे दे सारा आसमान आपको…

******************************************

Latest Shayari on Khawahish

Latest Shayari on Khawahish

कुछ यूँ बिखरी पड़ी है मेरी ख्वाहिशें जैसे सितारे,
ना जाने क्यों पर अपने भी अब हमें नही लगते हमारे.

******************************************

दिन ख्वाहिशों में गुजरता है रात खयालों में कटती है
शाम का आलम ना पूछो मयकदे जाओगे तो समझोगे

******************************************

बस एक ही ख्वाहिश मैं मुट्ठी भर बादल बन जाऊं
तेरे दिल के आंगन में भिगु तूझ संग भूल गए सब गम

******************************************

मुझे मालूम है कि ये ख्वाब झूठे हैं और ख्वाहिशें अधूरी हैं
पर जिंदा रहने के लिए गलतफहमियां भी जरूरी हैं

******************************************

तकदीर का ही खेल है सब
पर ख्वाहिशें है की समझती ही नहीं

******************************************

हजार ख्वाहिशें हमने एक साथ तौल कर देखी
उफ्फ तेरी ये चाहत फिर भी सब पर भारी निकली

******************************************

जब तक तुम्हें न देखूं दिल को करार नहीं आता,
किसी गैर के साथ देखूं तो फिर सहा नहीं जाता।

******************************************

चुराकर दिल मेरा वो बेखबर से बैठे हैं,

मिलाते नहीं नजर हमसे अब शरमाये बैठे…

 

******************************************

Other Post :-

Break up Status

Dhoka Shayari In Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *