India Shayari

20210925 105658 1

[151+] Kabiliyat | Kabiliyat Shayari | Kabiliyat Kamyabi Shayari

Hello, Friends Are You Looking For Motivational Lines On Kabiliyat. So Today We Have Brought the Best Collection Of Kabiliyat Shayari. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Kabiliyat Images, Kabiliyat, Kamyabi Shayari 2 line, Kamyabi Shayari In Hindi 2 line Etc. Also, Share These With Your Friends.

Kabiliyat

Kabiliyat

वो नापते रहेंगे तुम्हे खूबसूरती के पैमाने में,
तुम अड़ी रहना खुद की काबिलियत आकने में


हर एक इन्सान है काबिल,
तो फिर क्या है मुश्किल .
बस अगर काबिलियत जान ले,
तो दूर नहीं कोई भी मंजिल .


अपनी काबिलियत को,
कभी कम मत आकना .
सपनो को अपने कभी,
फांसी के फंदे पर मत टांकना.


बहुत वक़्त गुज़र गया,
पर दिया अपने दिल नहीं.
क्या मैं ये समझू कि,
हम आपके काबिल नहीं.


ऐसे काम में काबिल बनो
जिस काम को आप चाहते हो
क्यूंकि ऐसे काम में काबिल बनने में
आपका ज्यादा वक़्त नहीं लगेगा


काबिलियत तो इंसान में है इतनी,
कि जननत भी झुका दे.
एक बार पहचान ले अपनी काबिलियत,
तो कुदरत भी हिला दे।


ज़िन्दगी काटो का सफर है,
हौसला इसकी पहचान है
रास्ते पर तो सभी चलते है
जो रास्ता बनाये वहीं इंसान है।


कागज़ अपनी किस्मत से उड़ता है,
लेकिन पतंग अपनी काबिलियत से
इसलिए किस्मत साथ दे या ना दे
पर काबिलियत ज़रूर साथ देती है।


तू जो बोले वो कर दिखाऊ,
तू जैसा बोले वैसा बन जाऊ.
इतनी मेहनत कर लू अपने ऊपर,
कि तेरे बस काबिल बन पाऊ.


शायद हम आपके काबिल नहीं,
तभी दिया आपने हमें दिल नहीं.
तेरी राहों में दोबारा लौट आऊंगा,
एक दिन तेरे काबिल बन दिखाउगा


अपनी काबिलियत को पहचानो,
क्या रह गयी कमी वो जानो .
मंजिल मिल ही जाएगी एक दिन,
बस तुम कभी हार मत मानो


हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;

जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;

यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;

न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो.


जिंदगी में हद से ज्यादा ख़ुशी

और हद से ज्यादा गम का कभी किसी से इज़हार मत करना,

क्योंकि, ये दुनिया बड़ी ज़ालिम है,

हद से ज्यादा ख़ुशी पर ‘नज़र’ और हद से ज्यादा गम पर ‘नमक’ लगाती है.


कभी फूलों की तरह मत जीना,
जिस दिन खिलोगे… टूट कर बिखर जाओगे ।

जीना है तो पत्थर की तरह जियो;

जिस दिन तराशे गए… “खुदा” बन जाओगे


जिन्दगी जख्मो से भरी है ,
वक़्त को मरहम बनाना सिख लें ,
हारना तो है मोतके सामने ,
फ़िलहाल जिन्दगी से जीना सिख लें


खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं,
धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं,
ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी,
हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं.


Kabiliyat Shayari

Kabiliyat Shayari

औरो के ज़ोर पर अगर उड़कर दिखाओगे,
अपने पैरों से उड़ने का हुनर भूल जाओगे।


मुझको ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं,
और कितने आंसू बहाऊँ मैं उसके लिए,
जिसको खुदा ने मेरे नसीब में लिखा नहीं।

Mujhko Aisa Dard Mila Jiski Dava Nahi,
Phir Bhi Khush Hun Mujhe Uss Se Koi Gila Nahi,
Aur Kitne Aansu Bahaun Main Uss Ke Liye,
Jisko Khuda Ne Mere Naseeb Main Likha Nahi.


पलकों में आँसू और दिल में दर्द सोया है,
हँसने वालो को क्या पता रोने वाला किस कदर रोया है,
ये तो बस वोही जान सकता है, मेरी तन्हाई का आलम,
जिसने ज़िंदगी में, किसी को पाने से पहले खोया हो..

Palko me aansu or dil me dard soya hai,
Hasne walo ko kya pta rone wala kis kadar roya hai,
Ye to bas wo hi jaan sakta hai, meri tanhai ka aalam,
Jisne zindgi me, kisi ko pane se pehle khoya ho..


कभी बरसात का मज़ा चाहो,
तो इन आँखों में आ बैठो,
वो बरसों में कभी बरसती है,
ये बरसों से बरसती हैं।

Kabhi Barsaat Ka Mazaa Chaho,
Toh Inn Aankhon Mein Aa Baitho
Woh Barson Mein Kabhi Barsate Hain
Yeh Barson Se Barasti Hain


तुम्हारी हर एक बात बेवफाई की कहानी है
लेकिन तेरी हर साँस मेरी ज़िन्दगी की निशानी है
तुम आज तक नहीं समझ सके मेरा पयार
इसलिए मेरे आंसू भी तेरे लिए पानी है

Tumhari har ek bate bewafai ki kahani hai,
Lakein teri har sans meri zindgi ki nisani hai,
Tum aaj tk nahi samjh sake mera pyar,
Islia mere aansu bhi tere lia pani hai.


कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए,
जब भी तेरी याद आई तुझे भुला के रोए,
एक तेरा ही तो नाम था जिसे हज़ार बार लिखा,
जितना लिख के खुश हुए उस से ज़यादा मिटा के रोए

Kabhi ro ke muskurae, kabhi muskura ke roe,
Jab bhi teri yad aai tujhe bhula ke roe,
Ek tera hi to naam tha jise hjar bar likha,
Jitna likh ke khus hue utna mita ke roe.


आंसुओं की बूँदें हैं या आँखों की नमी है
न ऊपर आसमां है न नीचे ज़मी है
यह कैसा मोड़ है ज़िन्दगी का
उसी की ज़रूरत है और उसी की कमी है

Aansuo ki bunde hai ya aankho ki nami hai
Na uper aasman hai na niche jamin hai
Yeh kaisa mod hai zindgi ka
Usi ki jarurat hai or usi ki kami hai.


हसी झूठी सजाई हमने है
कहानी अपनी हर एक से छुपाई हमने है
दिलके टुकड़े को दफना कर गहराई में
हर अधूरी ख्वाहिश आंसू में बहाई हमने है |

Hasi jhuti sazai humne hai,
Khani apni har ek se chupai humne hai,
Dil ke tukdo ko dafna kar gehrai me
Har adhuri khwahish ansuo me bahaai humne hai.


चाहत वो नहीं जो जान देती है,
चाहत वो नहीं जो मुस्कान देती है,
ऐ दोस्त चाहत तो वो है,
जो पानी में गिरा आँसू पहचान लेती है।

Chahat Wo Nahi Jo Jaan Deti Hai,
Chahat Wo Nahi Jo Muskaan Deti Hai,
Ai Dost Chahat To Wo Hai,
Jo Pani Mein Gira Aansu Pehchan Leti Hai.


टूटा हो दिल तो दुःख होता हैं ,
करके मोहब्बत किसी से यह दिल रोता है,
दर्द का एहसास तो तब होता है ,
जब किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है..

Tuta ho dil to dukh hota hai,
Karke mohhabt kisi se yeh dil rota hai,
Dard ka ehsas to tab hota hai,
Jab kisi se mohhabt ho or uske dil me koi or hota hai..


काश कोई होता इन आंसुओ को रोकने के लिए
काश कोई होता इन आंसुओ को पूछने के लिए
नहीं होती मेरी भी ख्वाहिश इस दुनिआ को छोड़ने की
अगर कोई होता हाथ मेरा थाम लेने के लिए|

Kash koi hota in aansuon ko rukne ke liye,
Kash koi hota in aankho ko puchne ke liye,
Nhi hoti meri bhi khwahish is duniya ko chhod jane ki
Agar koi hota hath mera tham mujh rokne ke liye


बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके,
ख्यालों में किसी और को ला न सके,
उसको देख के आँसू तो पोंछ लिए,
लेकिन किसी और को देख के मुस्कुरा न सके।

Bahut Chaha Usko Jise Hum Pa Na Sake,
Khayalon Me Kisi Aur Ko La Na Sake,
Usko Dekh Ke Aansu To Ponchh Liye,
Lekin Kisi Aur Ko Dekh Ke Muskura Na Sake.


ऐसे गये दिल की ज़मी बंजर कर के,
आज तक कोई फूल ना खिल सका,
बस्ती बस्ती लोग मिले हमराह मगर,
फिर कभी तेरा पता ना मिल सका..

Aise gaye dil kee zamee banjar kar ke,
Aaj tak koee phool na khil saka,
Bastee bastee log mile hamaraah magar,
Phir kabhee tera pata na mil saka


भर आई मेरी आँखे जब उसका नाम आया,
इश्क़ नाकाम सही फिर भी बहुत काम आया,
हमने मोहब्बत में ऐसी भी गुज़ारी कई रातें,
जब तक आँसू ना बहे दिल को आराम न आया।

Bhar Aayi Meri Aankhein Jab Uska Naam Aaya,
Ishq Nakaam Sahi Phir Bhi Bahut Kaam Aaya,
Humne Mohabbat Mein Aisi Bhi Gujaari Kayi Raatein,
Jab Tak Aansu Na Bahe Dil Ko Aaram Na Aaya


बहुत बिखरा बहुत टूटा मगर सह नहीं पाए
हवाओं के इशारो पे मगर हम बह नहीं पाए
अधुरा अनसुना ही रह गया प्यार का किस्सा
कभी तुम सुन नहीं पाए कभी हम कह नहीं पाए

Bahut bikhara bahut toota magar sah nahin pae
Havaon ke ishaaro pe magar ham bah nahin pae
Adhura anasuna hee rah gaya pyaar ka kissa
Kabhee tum sun nahin pae kabhee ham kah nahin pae


अश्क बन कर आँखों से बहते हैं !
बहती आँखों से उनका दीदार करते हैं !
माना की ज़िंदगी मे उन्हे पा नही सकते !
फिर भी हम उनसे बहुत प्यार करते हैं !!

Ashk ban kar aankhon se bahate hain !
Bahatee aankhon se unaka deedaar karate hain !
Maana kee zindagee me unhe pa nahee sakate !
Phir bhee ham unase bahut pyaar karate hain


ज़िन्दगी में एक बात हमेशा याद रखना,
हमें तब तक कोई हरा नहीं सकता,
जब तक हम खुद से न हार जाये…

Zindgi me ek baat humesha yaad rkhna,
Hume tab tak koi hara nahi skta
Jab tak hum khud se na haar jaye.


डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,
लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,
खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,
मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर…

Dar mujhe bhi laga fasla dekhkar,
Lekin m badhta gaya rasta dekhkar
Khud-b-khud mere nazdeek aati gayi
Meri manzil mera hausla dekhkar


जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा…

Jo muskura raha h use dard ne pala hoga,
Jo chl raha h uske paav me chhala hoga
Bina sangarsh ke insan chamak nahi skta
Jo jalega usi deeye me to ujala hoga


मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,
हर पहलू जिंदगी का इम्तिहान होता है,
डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िदगी में,
लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है


Mushkilo se bhaag jana aasan hota h,
Har phlu zindgi ka imtihaan hota h
Darne walo ko milta nhi kuch zindgi me
Ldne walo ke kadmo me zahan hota h.


अभी तो असली मंजिल पाना बाकी है,
अभी तो इरादों का इम्तिहान बाकी है,
तोली है मुट्ठी भर जमीन,
अभी तोलना सारा आसमान बाकी है

Abhi to asli manzil pana baki hai,
Abhi to irado ka imtihan baki hai
Toil hai mutthi par zameen
Abhi tolna sara aasmaan baki h


मँजिले बड़ी जिद्दी होती हैँ,
हासिल कहाँ नसीब से होती हैं,
मगर वहाँ तूफान भी हार जाते हैं,
जहाँ कश्तियाँ जिद पर होती है…

Manzile badi ziddi hoti hai
Hasil kaha naseeb se hoti hai
Magar waha tufaan bhi har jate hai
Jaha kashtiya zid par hoti hai.


हौसले बुलंद कर रास्तों पे चल दे,
तुझे तेरा मुकाम मिल जायेगा,
बढ़ कर अकेला तू पहल कर के देख
तेरा काफिला खुद बन जायेगा

Hausle buland kar rasto pe chal de
Tujhe tera mukaam mil jayega
Badh akela tu pahal karke dekh
Tera kafila khud ban jayega


रात नहीं ख्वाब बदलता है,
मंजिल नहीं कारवाँ बदलता है,
जज्बा रखो जीतने का क्यूंकि,
किस्मत बदले न बदले ,
पर वक्त जरुर बदलता है…

Raat nahi khwab badalta hai,
Manzil nahi karwa badalta hai
Zazba rakho jeetne ka kyunki
Kismat badle na badle waqt zaroor badalta hai.


कामयाबी के सफ़र में मुश्किलें तो आएँगी ही,
परेशानियाँ दिखाकर तुमको तो डराएंगी ही,
चलते रहना कि कदम रुकने ना पायें,
अरे मौत से क्या डरना एक दिन तो आएगी ही…

Pareshaniya dikhakar tumko to daraegi hi
Chalet rhna ki kadam rukne naa paye
Are maut se kya darna ek din to aayegi hi.


देखते हैं ये जिंदगी हमें कब तक भटकाएगी

किसी दिन तो कोशिशें हमारी रंग लाएंगी,
उस रोज हम आराम से बैठेंगे अपने कमरे में
और कामयाबी बाहर खड़ी दरवाजा खटखटाएगी…

Dekhte hai ye zindgi hume kab tak bhatkaegi,
Kisi din to koshishe humari rang laegi
Us roz hum aaram se baithenge apne kamre me
Aur kamyabi bahar khadi darwaza khatkhataegi.


Motivational Quotes On Kabiliyat

Motivational Quotes On Kabiliyat

इतने काबिल बन जाओ,
कि तुम्हारे कद का शीशा ही ना मिले।


जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,

सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है


अभी तो असली मंजिल पाना बाकी है,अभी तो इरादों का इम्तिहान बाकी है,

तोली है मुट्ठी भर जमीन,अभी तोलना सारा आसमान बाकी है


मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,हर पहलू जिंदगी का इम्तिहान होता है,

डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िदगी में,लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है


ना पूछो कि मेरी मंजिल कहाँ है,अभी तो सफर का इरादा किया है,

ना हारूंगा हौंसला उम्र भर,ये मैंने किसी से नहीं खुद से वादा किया है


डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,

खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर


जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,

बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा


जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,

बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा


लाख दलदल हो, पाँव जमाए रखिये,हाथ खाली ही सही, ऊपर उठाये रखिये,

कौन कहता है छलनी में, पानी रूक नही सकता,बर्फ बन्ने तक, हौसला बनाये रखिये


मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,हर पहलू जिंदगी का इम्तिहान होता है,

डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िदगी में,लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है


सफलता एक चुनौती है इसे स्वीकार करो,क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो,

कुछ किए बिना ही जय जयकार नहीं होती,कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती


Kabiliyat Shayari In Hindi

Kabiliyat Shayari In Hindi

हालात के मारे होते है कुछ लोग,
वरना काबिलियत तो सबमे होती है।


देखते हैं ये जिंदगी हमें कब तक भटकाएगी

किसी दिन तो कोशिशें हमारी रंग लाएंगी,

उस रोज हम आराम से बैठेंगे अपने कमरे में

और कामयाबी बाहर खड़ी दरवाजा खटखटाएगी


जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,

थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,

सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,

नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है


धार के विपरीत जाकर देखिये,

जिन्दगी को आजमा कर देखिये,

आंधियाँ खुद मोड़ लेंगी रास्ता,

एक दीपक तो जला कर देखिये


डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,

लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,

खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,

मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर


रात नहीं ख्वाब बदलता है,

मंजिल नहीं कारवाँ बदलता है,

जज्बा रखो जीतने का क्यूंकि,

किस्मत बदले न बदले,पर वक्त जरुर बदलता है


कामयाबी के सफ़र में मुश्किलें तो आएँगी ही,

परेशानियाँ दिखाकर तुमको तो डराएंगी ही,

चलते रहना कि कदम रुकने ना पायें,

अरे मौत से क्या डरना एक दिन तो आएगी ही


जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा


लाख दलदल हो, पाँव जमाए रखिये,
हाथ खाली ही सही, ऊपर उठाये रखिये,
कौन कहता है छलनी में, पानी रूक नही सकता,
बर्फ बन्ने तक, हौसला बनाये रखिये…


ना पूछो कि मेरी मंजिल कहाँ है,
अभी तो सफर का इरादा किया है,
ना हारूंगा हौंसला उम्र भर,
ये मैंने किसी से नहीं खुद से वादा किया है


मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,
हर पहलू जिंदगी का इम्तिहान होता है,
डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िदगी में,
लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है


अभी तो असली मंजिल पाना बाकी है,
अभी तो इरादों का इम्तिहान बाकी है,
तोली है मुट्ठी भर जमीन,
अभी तोलना सारा आसमान बाकी है


Motivational Lines On Kabiliyat In Hindi

Motivational Lines On Kabiliyat In Hindi

दुख के दस्तावेज हो या सुख की वसीयत,
गौर से देखोगे तो अपने ही दस्तखत पाओगे


सफलता एक चुनौती है इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो,
कुछ किए बिना ही जय जयकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती


जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,
थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,
सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,
नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है


डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,
लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,
खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,
मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर


धार के विपरीत जाकर देखिये,
जिन्दगी को आजमा कर देखिये,
आंधियाँ खुद मोड़ लेंगी रास्ता,
एक दीपक तो जला कर देखिये


जिंदगी में हद से ज्यादा ख़ुशी और

हद से ज्यादा गम का कभी किसी से इज़हार मत करना,

क्योंकि, ये दुनिया बड़ी ज़ालिम है,

हद से ज्यादा ख़ुशी पर ‘नज़र’ और हद से ज्यादा गम पर ‘नमक’ लगाती है


कभी फूलों की तरह मत जीना,
जिस दिन खिलोगे… टूट कर बिखर जाओगे

जीना है तो पत्थर की तरह जियो;

जिस दिन तराशे गए “खुदा” बन जाओगे


जिन्दगी जख्मो से भरी है ,
वक़्त को मरहम बनाना सिख लें ,
हारना तो है मोतके सामने ,
फ़िलहाल जिन्दगी से जीना सिख लें


खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं,
धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं,
ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी,
हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं.


मोती हूँ तो दामन में पिरो लो मुझे अपने,
आँसू हूँ तो पलकों से गिरा क्यूँ नहीं देते ?
साया हूँ तो साथ ना रखने कि वज़ह क्या , पत्थर हूँ तो रास्ते से हटा क्यूँ नहीं देते


दोलत मेरा नशा हे..
खोफ मेरा हथीयार हे..
जीन्दगी से खेलना मेरा शोख हे..
ओर खेलता हु वो भी अपनी शरतो पर..
ओर जीतना मेरी झीद नही मेरी आदत हे


हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;

जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;

यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;

न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो.

Related Posts:-

Kamyabi Shayari In Hindi
Hosla Shayari In Hindi
Struggle Quotes in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *