India Shayari

20210711 151023

[70+ Best] Garibi Shayari | Garibi Shayari Hindi गरीबी शायरी

Hello, Friends Are You Looking For Garibi Shayari. So Today We Have Brought the Best Collection Of Garibi Shayari Hindi. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Shayari On Garibi, Amiri Garibi Shayari, Garibi Par Shayari, Garibi Ki Shayari Etc. Also, Share These With Your Friends.

Garibi Shayari On Love

Garibi Shayari On Love

मैं क्या महोब्बत करूं किसी से, मैं तो गरीब हूँ
लोग अक्सर बिकते हैं, और खरीदना मेरे बस में नहीं

****************************************

भूख ने निचोड़ कर रख दिया है जिन्हें
उनके तो हालात ना पूछो तो अच्छा है
मज़बूरी में जिनकी लाज लगी दांव पर
क्या लाई सौगात ना पूछो तो अच्छा है

****************************************

खिलौना समझ कर खेलते जो रिश्तों से
उनके निजी जज्बात ना पूछो तो अच्छा है
बाढ़ के पानी में बह गए छप्पर जिनके
कैसे गुजारी रात ना पूछो तो अच्छा है

****************************************

गरीबों की औकात ना पूछो तो अच्छा है
इनकी कोई जात ना पूछो तो अच्छा है
चेहरे कई बेनकाब हो जायेंगे
ऐसी कोई बात ना पूछो तो अच्छा

****************************************

वो राम की खिचड़ी भी खाता है
रहीम की खीर भी खाता है
वो भूखा है जनाब उसे
कहाँ मजहब समझ आता है

****************************************

ख्वाहिशें भी बड़ी महँगी है ,
ग़रीब के घर नही टिकती…
खैर आना अबकी बार तुम यादों में ,
मेरे ख़्वाबों में भेद नहीं है अमीर-गरीब का ।

****************************************

लगता था जहां में सबसे अमीर था।
जब तक तू करीब था।
आज तूने ये भ्रम भी तोड़ दिया।
मैं आज भी गरीब हूं, मैं तब भी गरीब था।।

****************************************

हैरत की निगाहों से मूझे देखने वालो
हैरत की निगाहों से..मूझे देखने वालो,
लगता है तुम ने कभी समुदर नहीं देखा.

****************************************

Heart Touching Garibi Shayari Hindi

Heart Touching Garibi Shayari Hindi

फ़ेक रहे तुम खाना क्योंकि, आज रोटी थोड़ी सूखी है,
थोड़ी इज्ज़त से फेंकना साहेब, मेरी बेटी कल से भूखी है।

****************************************

गरीब नहीं जानता क्या है मज़हब उसका
जो बुझाए पेट की आग वही है रब उसका

****************************************

घर में चूल्हा जल सके इसलिए कड़ी धूप में जलते देखा है
हाँ मैंने गरीब की सांस को गुब्बारों में बिकते देखा है

****************************************

ऐ सियासत…
तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया
गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया

****************************************

अमीरी का हिसाब तो दिल देख के कीजिये साहब
वरना गरीबी तो कपड़ो से ही झलक जाती है

****************************************

खुले आसमां के नीचे सोकर भी अच्छे सपने पा लेते है,
हम गरीब है साहेब थोड़े सब्जी में भी 4 रोटी खा लेते है।

****************************************

गरीबी की भी क्या खूब हँसी उड़ायी जाती है,
एक रोटी देकर 100 तस्वीर खिंचवाई जाती है।

****************************************

साथ सभी ने छोड़ दिया,
लेकिन ऐ-गरीबी,
तू इतनी वफ़ादार कैसे निकली।

****************************************

Heart Breaking Garibi Shayari

Heart Breaking Garibi Shayari

अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी,
जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है।

****************************************

सुला दिया माँ ने भूखे बच्चे को ये कहकर
परियां आएंगी सपनों में रोटियां लेकर

****************************************

कतार बहुत लम्बी थी इस लिए सुबह से रात हो गयी
ये दो वक़्त की रोटी आज फिर मेरा अधूरा ख्वाब हो गयी

****************************************

हमने कुछ ऐसे भी गरीब देखे हैं
जिनके पास पैसों के अलावा कुछ भी नहीं

****************************************

हम गरीब लोग है किसी को मोहब्बत के सिवा क्या देंगे
एक मुस्कराहट थी,
वह भी बेवफ़ा लोगो ने छीन ली

****************************************

क्या किस्मत पाई है रोटीयो ने भी निवाला बनकर
रहिसो ने आधी फेंक दी,
गरीब ने आधी में जिंदगी गुज़ार दी

****************************************

कभी जात कभी समाज तो कभी औकात ने लुटा,
इश्क़ किसी बदनसीब गरीब की आबरू हो जैसे।

****************************************

गरीबी लड़तीं रही रात भर सर्द हवाओं से,
अमीरी बोली वाह क्या मौसम आया है।

****************************************

कभी जात कभी समाज तो कभी औकात ने लुटा,
इश्क़ किसी बदनसीब गरीब की आबरू हो जैसे।

****************************************

Amiri Garibi Shayari

Amiri Garibi Shayari

अपने मेहमान को पलकों पे बिठा लेती है
गरीबी जानती है घर में बिछौने कम हैं

****************************************

यहाँ गरीब को मरने की इसलिए भी जल्दी है साहब,
कहीं जिन्दगी की कशमकश में कफ़न महँगा ना हो जाए।

****************************************

जनाजा बहुत भारी था उस गरीब का,
शायद सारे अरमान साथ लिए जा रहा था।

****************************************

ऐ सियासत… तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया,
गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया।

****************************************

दोपहर तक बिक गया बाजार का हर एक झूठ
और एक गरीब सच लेकर शाम तक बैठा ही रहा

****************************************

जब भी मुझे जियारत करनी होती है
मै गरीब लोगो में बैठ आता हूं

****************************************

मेरे हिस्से की रोटी सीधा मुझे दे दे ऐ खुदा,
तेरे बंदे तो बड़ा ज़लील करके देते हैं।

****************************************

बात मरने की भी हो तो कोई तौर नहीं देखता,
गरीब, गरीबी के सिवा कोई दौर नहीं देखता।

****************************************

Garibi Ki Shayari In Hindi

Garibi Ki Shayari In Hindi

ये गंदगी तो महल वालों ने फैलाई है साहब,
वरना गरीब तो सड़कों से थैलीयाँ तक उठा लेते हैं

****************************************

उन घरो में जहाँ मिट्टी कि घड़े रखते हैं।
कद में छोटे मगर लोग बड़े रखते हैं।

****************************************

कैसे बनेगा अमीर वो हिसाब का कच्चा भिखारी।
एक सिक्के के बदले जो बीस किमती दुआ देता हैं

****************************************

तहजीब की मिसाल गरीबों के घर पे है,
दुपट्टा फटा हुआ है मगर उनके सर पे है

****************************************

अपने मेहमान को पलकों पे बिठा लेती है
गरीबी जानती है घर में बिछौने कम हैं ..

****************************************

जब भी देखता हूँ किसी गरीब को हँसते हुए,
यकीनन खुशिओं का ताल्लुक दौलत से नहीं होता.

****************************************

ऐ सियासत तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया
गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया

****************************************

गरीब भूख से मरे तो अमीर आहों से मर गए।
इनसे जो बच गए वो झूठे रिवाजों से मर गए।।

****************************************

ड़ोली चाहे अमीर के घर से उठे चाहे गरीब के,
चौखट एक बाप की ही सूनी होती है !!

****************************************

Other Posts –

Kismat Shayari In Hindi

Zakhmi Dil Shayari

Mood off quotes

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *