India Shayari

20210917 193942

[ 110+ Latest ] जुनून भरी शायरी | Junoon shayari In Hindi

Hello, Friends Are You Looking For जुनून भरी शायरी. So Today We Have Brought the Best Collection Of Junoon Shayari. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like Junoon Bhari Shayari, Shayari on Junoon, Junoon ki shayari Etc. Also, Share These With Your Friends.

जुनून भरी शायरी

जुनून भरी शायरी

 

जितने मुँह उतनी बातें हैं बढ़े क्यूँ ना जुनूं,

सबने दीवाना बना रक्खा है दीवाने को कादिर


क्रोध से बुद्धि, घमंड से ज्ञान,
लालच से ईमानदारी नष्ट होती है,
गलती होने पर प्रायश्चित करने से पाप खत्म होते हैं


अपने ख्वाबों को नादान ही रखो ज़नाब ,
जब समझने लगोगे तब वो ख्वाब नही रहंगे ।


ले मशालें चल पड़े हैं लोग मेरे गांव के,
अब अंधेरा जीत लेंगे लोग मेरे गांव के


मैं अपनी तारीफ खुद ही करता हूँ,
क्योंकि मेरी बुराई के लिए तो पूरा जमाना तैयार बैठा है .


कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर…


जिंदा हैं हौंसले ख़्वाब टूट नेके बाद भी ….
शर्मिंदा हैं मुश्किलें इन सबके बाद भी


गिरते ही संभल गये, मंजिंल थी हैं आखों में 
नहीं था इतना डैम इन दो आँधियों में 
चिराग भी जल जाता हैं इन हवाओं में


जब जोड़ते हैं कड़ी से कड़ी तब जाके बनती है जंजीर 
और जब होती है मेहनत पे मेहनत तभी बनती है तक़दीर


हौसला बढ़ाने वाली कविता: लिखे जाते हैं मेहनत की स्याही से जिनके इरादे
नहीं होते हैं कभी खाली पन्ने उनकी किस्मत में


मंज़िले मिलेगी यकीनन परिंदों को बोलते हैं फैले हुए उनके पर
अक्सर खामोश रहते हैं वो लोग जिनके हुनर बोलते हैं ज़माना


Junoon shayari

Junoon shayari

एक से एक जुनूं का मारा इस बस्ती में रहता है,

एक हमीं हुशियार थे यारो एक हमीं बदनाम हुए.


आदमी अपना दुःख तो
किसी तरह बर्दाश्त कर लेता है,
लेकिन उससे दूसरों का सुख
बर्दाश्त नहीं होता !!


जब तक आप अपनी समस्याओं एंव कठिनाइयों
की वजह दूसरों को मानते है,
तब तक आप अपनी समस्याओं
एंव कठिनाइयों को मिटा नहीं सकते


आज की कड़वी सच्चाई यही हैं की
लोग पैसे वाले लोगों को महत्व देते हैं,
चाहे सामने वाले व्यक्ति का चरित्र
इरादा और आदतें कैसी भी क्यों ना हो


मीठा झूठ बोलने से अच्छा है
कड़वा सच बोला जाए,
इससे आपको सच्चे दुश्मन जरूर मिलेंगे
लेकिन झूठे दोस्त नहीं।


परिवर्तन से डरना और संघर्ष से कतराना
मनुष्य की सबसे बड़ी कायरता है
जीवन का सबसे बड़ा गुरु वक्त होता है,
क्योंकि जो वक्त सिखाता है वो कोई नहीं सीखा सकता


नहीं हैं बनना तेरे जैसा,
नहीं बनना तेरे जैसा,
क्युकी हम तो हम हैं,
और हमारा काम आसमान हैं


ङुबोया नहीं करते उम्मीदों की कश्ती को,
थक कर रोया नहीं करते मंज़िल दूर हो तो,
कुछ पाने की उम्मीद जो दिल में रखते हैं,
वो लोग ज़िंदगी में कुछ खोया नहीं करते.


मुझे एहसास है की मेरी मंज़िल मेरे करीब है,
अपनी एरदोपे घमंड नहीं मुझे ,
ये है मेरी विश्वास सोच और हौंसलों का।


ना ही है कमाई और क़ारोबार कोई चिड़िया को,
लेकिन ढूंढ लेती है वो हौंसले से आबुदाना ,
उठाती है जो ख़तरा हर कदम डूब जाने का
ढूंढ लेती है वह कश्ती समुद्र का किनारा


महकते रहना सीखो फूलों की तरह,
चमकते रहना सीखो की तरह,
मिली ये ज़िन्दगी किस्मत से,
ख़ुद हँसो औरों को भी हँसाते रहो


Latest जुनून भरी शायरी

Latest जुनून भरी शायरी

जुनून सवार था किसी के अंदर जिंदा रहने का,

जनाब नतीज़ा ये आया कि हम अपने अंदर ही मर गए.


फिर इश्क़ का जुनूं चढ़ रहा है सिर पे,

मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे.


वो व्यक्ति हारी हुई बाज़ी भी जीत जाता हैं,

जिसके पास जुनून का खात्मा नहीं हुआ होता हैं.


काश कभी तुम समझ पाओ इस प्यार के जुनून को,

हैरान रह जाओगे मेरे दिल में अपनी कदर देख कर.


आवारगी का आलम अब कुछ यूँ है,

भटके हैं लफ्ज़ मेरे तेरा ही जुनूं है


अब के बच्चों में नहीं है पहले सा जुनूं,

बस नशे में, हौसलों की पालकी सोई हुई


ज़िन्दा हैं हौंसले ख़्वाब टूट नेके वजूद,
कियकी हम वो हैं जिसपे मुश्किलें शर्मिदा हैं…


लौट ही जाते हैं अँधेरे जब रोशनी मुकद्दर में हो तो,
खुल ही जाते हैं रास्ते जब हौंसले बुलन्द हो तो।


जो मिलता हैं आसानी से उसकी ख्वाहिश किसे हैं 
जिसको पाना हैं सिद्धार्त से उनके लिए क्यों बैठे रहना हैं


सोचने से मिलते नहीं तमन्नाओं के शहर 
मंज़िल को पाने के लिए चलना भी जरूरी है


आसमान को देखना हैं तो ज़मीन पर बैठ क्यों 
खोल दे अपना पंखो को ज़माना है उड़ान का


Junoon shayari In Hindi

Junoon shayari In Hindi

जो तौर है दुनियां का उसी तौर से बोलो,
बेहरों का इलाका है.. ज़रा ज़ोर से बोलो..


लोग जिस हाल में मरने की दुआ करते हैं
मैंने उस हाल में जीने की क़सम खाई है


दुनिया में वही शख़्स है ताज़ीम के क़ाबिल
जिस शख़्स ने हालात का रुख़ मोड़ दिया हो


ये और बात कि आँधी हमारे बस में नहीं
मगर चराग़ जलाना तो इख़्तियार में है


इधर फ़लक को है ज़िद बिजलियाँ गिराने की
उधर हमें भी है धुन आशियाँ बनाने की


रात को जीत तो पाता नहीं लेकिन ये चराग़
कम से कम रात का नुक़सान बहुत करता है


गर किया नासेह ने हम को क़ैद अच्छा यूँ सही
ये जुनून-ए-इश्क़ के अंदाज़ छुट जावेंगे क्या


हर इक मकान को है मकीं से शरफ़ ‘असद’
मजनूँ जो मर गया है तो जंगल उदास है


लिखते रहे जुनूँ की हिकायात-ए-ख़ूँ-चकाँ
हर-चंद इस में हाथ हमारे क़लम हुए


मैं ने जुनूँ से की जो ‘असद’ इल्तिमास-ए-रंग
ख़ून-ए-जिगर में एक ही ग़ोता दिया मुझे


अब के जुनूँ में फ़ासला शायद न कुछ रहे
दामन के चाक और गिरेबाँ के चाक में


Motivational जुनून भरी शायरी

Motivational जुनून भरी शायरी

मैं अपनी तारीफ खुद ही करता हूँ,
क्योंकि मेरी बुराई के लिए तो पूरा जमाना तैयार बैठा है .


हमारा साथ आखरी सास तक है
यह मत समझना आखरी आस तक है
लंबा इंतजार हैं प्यार का यही तो इम्तिहान है
तुझे जुनुन है मेरा तो मुझे भी तेरा इंतजार है
बस तू आ तो जा आंखों को तेरा ही खुमार है


अगर ठानी है जिद मंजिल तक जाने की
तो फिर कर मेहनत उस लक्ष्य को पाने की
अब देरी है तो परिश्रम को आग में तपाने की
तो कोशिश तो कर, क्या जरूरत है पहले ही हार मान जाने की


जीत की ख़ातिर बस जूनून चाहिए,
जिसमें उबाल हो ऐसा खून चाहिए
ये आसमां भी आ जाएगा ज़मीं पर,
बस इरादों में जीत की गूँज चाहिए


जिंदगी में अपनो से नहीं
सपनो से मोहब्बत करो
जब, सपने हक्क मे होंगे तब,
अपनो के साथ पराये भी अपने होंगे।


आपने आपको ये मत बताओ की
आपकी तकलीफ कितनी बड़ी
अपनी तकलीफ को ये बतांओं आप
कितने बड़े हो कितने निडर हो


ये जूनून ये इश्क़ बना रहे
मेरा दिल तुझ पे ही फ़िदा रहे
ना हो फ़िक्र कोई जहान की
ना ज़ेहन में कोई तेरे सिवा रहे।।


मौजूदगी नही बस तू चाहिए,
वादा नही इक जुनून चाहिए,
ख़ुद को क़ाबिल बना लूँ मैं कुछ इस क़दर,
कि मंज़िल मुझे रूबरू चाहिए


जीत के खातिर बस जूनून चाहिंये।
जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिये।।
यह आसमान भी आयेगा जमिन पर,
बस इरादो मे जीत की गुँज चाहिये


यूँ ही नहीं मिलती राही को मंजिल
एक जुनून सा दिल में जगाना पड़ता हैं,
पूछा चिड़ियाँ से कैसे बनता है आशियाना
तो बोली तिनका-तिनका उठाना पड़ता हैं.


अहले जिंदगी अकेले नहीं गुजरती
ख्वाब पूरे ना हो तो जिंदगी नहीं ठहरती
आज जो नहीं हुआ वो कल होगा
हम ठहरते नही नदी के तेज धार को देखकर
मजधार से कश्ती निकाल ही लेंगे
मेरी जुनून मेरी हिम्मत नही हारती।


Related Posts :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *