India Shayari

20210930 205245 11zon

[151+] किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी | दुश्मन को जलाने वाली शायरी

Hello, Friends Are You Looking For किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी. So Today We Have Brought the Best Collection Of दुश्मन को जलाने वाली शायरी. This Collection Contains Various Types Of Shayari Like लड़कियों को जलाने वाली शायरी, Jalane Wale Status In Hindi, Jalne Wale Status, Log Jalte Hai To Jalne Do Quotes, जलने वालों के लिए शायरी Etc. Also, Share These With Your Friends.

किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी

किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी

वो बोले ताली तो हाथ से बजती है

मेने चमाट मार के बजा दी एक हाथ से ताली।


मेरा Style और Attitude तेरी औकात से बहार है,
जिस दिन तू जान जाएगा उस दिन जान से जाएगा।


वो Attitude ही क्या जो वक़्त के साथ बिखर जाए अगर कोई किसी से दिल लगाए,
तो ऐसे लगाए जैसे तेज़ आंधी सूखे पत्ते को न उड़ा पाए।


न शेर हु न शिकारी, न बादशाह न खिलाड़ी , हम वो चिंगारी है
जो एक बार सुलग गयी तो जिंदिगी बर्बाद करदेगी तुम्हारी।


दो चार दिन की Personality नहीं जो लोग हमें भूला दे,
उस गब्बर जैसा हूँ जिसका नाम बोलके माँ अपने बच्चे को सुला दे।


वैसे तो पूरी दुनिया हमारी दीवानी है। हाँ भूल गए है कुछ लोग औकात अपनी,
वक्त रहते उन्हें उनकी औकात याद दिलानी है।


खुद से ही जीतने की ज़िद है। खुद को ही हराना है।
मैं भीड़ नहीं हूँ दुनिया की। मेरे अंदर एक ज़माना है।


“Attitude मेरा खानदानी है। तू ही मेरे दिल की रानी है
इसीलिए कह रहा हु मानजा वरना मेरी करोडो दीवानी। है


सर झुकाने की आदत नहीं आंसू बहाने की आदत नहीं।
हम बिछड़ गए तो रोओगे। क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं।


जिगर वालो का डर से कोई वास्ता
नहीं होता हम कदम वहा रखते है
जहाँ कोई रास्ता नहीं होता


वैसे तो पूरी दुनिया हमारी दीवानी है
हाँ भूल गए है कुछ लोग औकात अपनी
वक्त रहते उन्हें उनकी औकात याद दिलानी है।


रिश्ते में प्यार की ताक़त कुछ वक़्त बीत जाने के बाद पता चलती हे
वरना पहली मुलाकात में तो दुश्मन भी प्यार से बाते करता हे।


दुश्मन को जलाने वाली शायरी

दुश्मन को जलाने वाली शायरी

मेरी पहचान बस इतनी जान लो बेनाम नहीं मुझे तुम गुमनाम जान लो।


जिन पत्थरों को हमने दी थी
धड़कने उनको जुबां मिली तो हम
पर ही बरस पड़े


तू हसीं इतनी और मुझे मोहब्बत तुझसे
दुनिया को तो खिलना ही था
जब सारा प्यार मिले जहाँ का चाँद को
सूरज को तो जलना ही था


अब न यकीन किसी पर करीब से करेंगे
दुःख सुख अपने किसी करीब से करेंगे
दोस्त ही आखिर बन गए दुश्मन मेरे
जब कभी की दोस्ती तो सीधे रक़ीब से करेंगे


कही दादा तो कही Don कही सलमान तो कही John
पर जहा अपनी Entry पड़ीं लोग बोले
Baap रे Baap YE है कौन


दुश्मन प्यारा नहीं होता
वो एक ही इंसान ऐसा होता हे
जो हमारी कमजोरी और हमारी
ताक़त की परख रखता हे


न शेर हु न शिकारी, न बादशाह न खिलाड़ी , हम वो चिंगारी है
जो एक बार सुलग गयी तो जिंदिगी बर्बाद करदेगी तुम्हारी


दो चार दिन की Personality नहीं जो लोग हमें भूला दे,
उस गब्बर जैसा हूँ जिसका नाम बोलके माँ अपने बच्चे को सुला दे


तू क्या हमारी बराबरी करेगा पगले
हमारे तो नींद में भी खींची हुई
फोटो भी लोग Dp लगाते है


राज तो हमारा हर जगह पर है
पसंद करने वालो के दिलो में,
न पसंद करने वालो के दिमाग में


वैसे तो पूरी दुनिया हमारी दीवानी है !
हाँ भूल गए है कुछ लोग औकात अपनी,
वक्त रहते उन्हें उनकी औकात याद दिलानी है !


2021 किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी

2021 किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी

मुझसे नाराज रहने वाले लोग
अक्सर ज्यादा नज़र रखते है मुझ पर


खुद से ही जीतने की ज़िद है
खुद को ही हराना है
मैं भीड़ नहीं हूँ दुनिया की
मेरे अंदर एक ज़माना है


सर झुकाने की आदत नहीं आंसू बहाने की आदत नहीं !
हम बिछड़ गए तो रोओगे
क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं


वो खुद पर इतना गुरूर करते है तो इसमें कोई हैरत की बात नहीं
जिन्हे हम चाहते है वो आम हो भी नहीं सकते


माना की तेरी एक आवाज़ से भीड़ ही जाती है !
लेकिन हम भी माहिर है हमारी एक ललकार से पूरी भीड़ बिखर जाती है


वो Attitude ही क्या जो वक़्त के साथ बिखर जाए
अगर कोई किसी से दिल लगाए, तो ऐसे लगाए
जैसे तेज़ आंधी सूखे पत्ते को न उड़ा पाए


इस बात से लगा लेना मेरी शक्शियत का अंदाजा
वो लोग मुझे सलाम करते है जिन्हे तूम सलाम करता हो


ज़िन्दगी जीते है शान से…

तभी तो दुश्मन जलते है YOUR NAME के नाम से


कुछ ही देर की ख़ामोशी है फिर कानो में शोर आएगा

तुम्हारा तो सिर्फ वक़्त है हमारा दौर आएगा


जिन पत्थरों को हमने दी थी धड़कने.

उनको जुबां मिली तो हम पर ही बरस पड़े


शराफत का जमाना ही नहीं रहा साहिब,

किसी को इज्ज़त दो तो वो कमज़ोर समझने लगते हैं


तेरा Attitude उस Flop Movie की तरह है

जिसे लोग देखते कम है गालियांं ज्यादा देते हैं


दुश्मन को जलाने वाली शायरी हिंदी

दुश्मन को जलाने वाली शायरी हिंदी

कामयाबी किसी के जलन होने से नहीं रूकती है
इसलिए बेहतर है की खुश हो और सहयोग करे


मिलाकर आंखें कुछ ना बोले धीरे से हर बार गुजर जाती हो

क्यों अक्सर मेरा दिल जलाने का बहाना ढूंढ लाती हो


तड़पते न थे आज तक वह जो आज बहुत तड़प रहे हैं

जो हमारी खुशियों को आग लगाने निकले थे उसी आग में जल रहे हैं


तू इतना अकड़ कर मत चल जमीन पर ना ही तो जमीन का कुछ बिगड़ पाएगा

और ना ही पहाड़ों की ऊंचाई को छू पायेगा


जब वक्त मुनासिब नहीं इसलिए तुझे पता नहीं कौन हूं

मैं करवट बदलने दे वक्त को जल्दी बताऊंगा तुझे कौन हूं मैं


उसने कहा मामूली सा शायर है तू कुछ बड़ा तो कर बताने को मैंने कहा

मेरे कुछ अल्फाज ही काफी है तेरे शहर को आग लगाने को


जिगर वालो का कभी भी किसी डर से वास्ता नहीं होता,
क्युकि हम कदम वहां रखते है जहा रास्ता नहीं होता


घमंड तो हमारी खून में है..
वो तो हम मरने के बाद भी दिखाएंगे…
लोग पैदल चलेंगे; और हम उनके कंधो पर जाएंगे.


सुरमे की तरह पिसा है हमे हालातों ने, तब जा के चढे है लोगो की निगाहों में !!
शराफत का जमाना ही नहीं रहा साहिब, किसी को इज्ज़त दो तो वो कमज़ोर समझने लगते हैं !!
नाम इसीलिए उँँचा है हमारा… क्युकी हम बदला लेने की नहीं बदलाव लाने की सोच रखते हैं


अगर तुम्हे लगता है की गलत हूँ मै, तो सही हो तुम… क्युकी थोड़ा अलग हूँ मैं 
न गरूर इतना की जिए दौलत का साहिब, बड़ो – बड़ो को मौत ने मिट्टी में दफ़न किया हैं


मुझसे नाराज रहने वाले लोग अक्सर ज्यादा नज़र रखते है मुझपर !!
अगर तुम उन्हें हद से ज्यादा Attention दोगे तो, भाईसाब Akad तो बढ़ ही जाएगी उनकी


सिर्फ कुछ देर की है ये ख़ामोशी फिर तुम्हारे कानो में शोर आएगा ..
तुम्हारा तो जमाना था हमारा तो नया दौर आएगा

नाम हमारा इसलिए ऊचा है महफ़िल में …
क्युकि हम बदला लेने की नहीं, बदलाव लाने की सोचते है


हमारे रुतबे का अंदाज़ा भी नहीं लगा पाओगे ..
किसी के महफ़िल में अगर हमने सिगरेट का एक कश भी लिया तो दूसरे महफ़िल में धुआँ फ़ैल जाता है


वो भी आधी रात को निकलता है औऱ मैं भी..
पर लोग उसे चाँद कहते है औऱ मुझे खलनायक


मिल जाये आसानी से उसकी ख्वाहिश हम नहीं करते..
जिद्द तो उसे पाने का है जो मुक्कदर में नहीं लिखा


हिन्दी किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी

हिन्दी किसी को जलाने की एटीट्यूड शायरी

मत करो मेरी पीठ के पीछे बात जाकर कोने में
वरना पूरी जिंदिगी गुज़र जाएगी रोने में।


सिर्फ एक बार वक्त बदलने दो
आपने तो सिर्फ बाजी पलटी है मैं तो पूरा खेल ही पलट दूंगा


हर किसी का वक्त आता है यह ध्यान में रखना
पर मेरा दौर आएगा और वह मैं खुद लाऊंगा आप देख लेना


मेरे हाल पर हंसने वाले शौक से हंसे
मेरी राह नापना आसान नहीं तुम लोगों को


देख तेरा यह घमंड ही तुझे एक दिन हराएगा
मैं चीज क्या हूं यह तुझे आने वाला वक्त बताएगा


दूसरों की बातों पर तू ध्यान मत दे
अपने बाप को मत सिखा चल तू ज्ञान मत दे


दूर है तो क्या हुआ आज का दिन तो हमे याद है, तुम ना सही पर तुम्हारा साया तो हमारे साथ है,

तुम्हे लगता है हम सब भूल जाते है, पर देखलो तुम्हारा जन्मदिन तो हमे याद है


हमें बेहाल देखकर उनकी हिम्मत ना हुई हमारा हाल पूछने की ,

और उन्हें खुशहाल देखकर हमारी हिम्मत ना हुई अपना हाल बताने की


आपको दिल से जन्मदिन मुबारक हो,ज़िंदगी की कुछ खास दुआए लेलो हमसे,

जन्मदिन पर कुछ नजराने ले लो हमसे, भर दे रंग जो तेरे जीवन के पलो में


तेरा हाथ पकड़ कर तुझे रोक लेते अगर तुझ पर थोड़ा सा ज़ोर होता मेरा ,

ना रोते हम यूँ तेरे लिए अगर हमारी ज़िन्दगी में कोई और होता


सुन पगली SENTY होना हमारी फितरत में नहीं,

भाग रे छोरी ये लड़का तेरी किस्मत में नहीं.


मेरे गली से गुजरते है छुपा के खन्जर
रू-ब-रू होने पर सलाम किया करते है.


पूछा है ग़ैर से मिरे हाल-ए-तबाह को,
इज़हार-ए-दोस्ती भी किया दुश्मनी के साथ.


यूँ तो मैं दुश्मनों के काफिलों से भी सर उठा के गुजर जाता हूँ,
बस, खौफ तो अपनों की गलियों से गुजरने में लगता है
कि कोई धोखा ना दे दे.


तुझसे अच्छे तो मेरे दुश्मन निकले,
जो हर बात पर कहते हैं.. ‘तुम्हें नहीं छोड़ेंगे.


ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए,
तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए.


Latest दुश्मन को जलाने वाली शायरी

Latest दुश्मन को जलाने वाली शायरी

चाँद भी पूरी रात जला था उन दोनों को साथ देखकर
सुना हे दाग आज तक नहीं मिटा


चांद समझा वो तारा निकला
एक मसीहा जो कातिल हमारा निकला
और मेरे पास जिसे पहन घमंड में आए हो
क्या करोगे अगर वो मेरा उतारा निकला.


मेरी जान ब्लॉक तो बच्चे करते है,
में तो तुम्हे खुद की शक्ल दिखाऊंगा भी
और मेरी कामयाबी से जलाऊंगा भी
गाली नही देता में.बस इज्जत देते देते
इज्जत उतार देता हूं में.


जलने वालों को ब्लॉक नही करता में
आंखों में आंखे डाल के
ओर भी ज्यादा जलाता हूं में


माना कि तुम्हे भौंकना आता है।
लेकिन अगर औकात के बाहर भौंका
तो याद रखियो मुझे ठोकना भी आता है.


चर्चाएं खास हो तो
किस्से भी जरूर होते है,
और उंगलियां तो इन पर ही उठती है
जो पहले से मशहूर होते है.


इतनी चौड़ में मत आ
अभी मेरा खेल में आना बाकी है,
तूने सिर्फ मेरे पंख देखे है
अभी तो मेरा उड़ना बाकी है.


किसी ने दिल तोड़ा तो
किसी ने तोड़े मेरे सपने थे,
दुश्मन तो दूर की बात, जलनेवालों में
सबसे ज्यादा तो खुद मेरे अपने थे


बेटे ये आंखे किसी ओर को दिखाना
अगर दम है तो परास्त कर
या फिर चूड़ियां पहन और बर्दाश्त कर


तुम बस अपनी मंजिल पे ध्यान दो
लोगो के तो लगती रहेगी
आगे आग और पीछे मिर्ची.


आजकल हमें डुबाने की
नाकाम कोशिशें वही कर रहे है,
जिन हरामखोरी को तैरना
हमने ही सिखाया था


Related Posts:-

Kabiliyat |Kabiliyat Kamyabi Shayari
Hosla Shayari In Hindi
Struggle Quotes in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *