India Shayari

20210314 160633 1

Shayari on beauty | Beauty Shayari | Tareef Shayari

Shayari on beauty:- Today we have uploaded some best Collection of Shayari on beauty, Hindi Tareef Shayari, Shayari on beauty in Hindi, Tareef messages for woman, tareef SMs for beautiful woman, Best Shayari on beauty Hindi. you can share these Shayari on Social media with Beautiful woman. Woman Loves to hear about their beauty.They Loves when someone praises their beauty. So you can send these shayari on beauty to them and impress Them. 

आज हमने खूबसूरती पर शायरी का कुछ बेहतरीन कलेक्शन अपलोड किया है, Tareef Shayari, Shayari on beauty in Hindi, औरत के लिए Tareef messages, सुंदर महिला के लिए tareef SM, सौंदर्य हिंदी पर सर्वश्रेष्ठ शायरी। आप इन शायरी को सोशल मीडिया पर ब्यूटीफुल वूमन के साथ शेयर कर सकते हैं। महिला अपनी सुंदरता के बारे में सुनना पसंद करती है। जब कोई उनकी सुंदरता की तारीफ करता है तो वह प्यार करता है। तो आप इन शायरी को उनके लिए सुंदरता पर भेज सकते हैं और उन्हें प्रभावित कर सकते हैं।

Shayari on beauty in Hindi

Shayari on beauty in Hindi
Shayari on beauty in Hindi

उसके हुस्न से मिली है मेरे इश्क को ये शौहरत,

मुझे जानता ही कौन था तेरी आशिक़ी से पहले।

 

Uske Husn Se Mili Hai Mere Ishq Ko Ye Shohrat,

Mujhe Janta Hi Kaun Tha Teri Aashiqi Se Pehle.

 

ये बात, ये तबस्सुम, ये नाज, ये निगाहें,
आखिर तुम्हीं बताओ क्यों कर न तुमको चाहें।

Ye Baat, Ye Tabassum, Ye Naaz, Ye Nigaahein,
Aakhir Tumhin Bataao, Kyu Kar Na Tumko Chaahein.

 

साथ शोखी के कुछ हिजाब भी है,
इस अदा का कहीं जवाब भी है?

Saath Shokhi Ke Kuchh Hijaab Bhi Hai,
Iss Adaa Ka Kahin Jawaab Bhi Hai?

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,

क्या बताऊं जो इन आँखों ने शमां देखा था।

Unko Sote Huye Dekha Dam-e-Subah Kabhi,
Kya Bataun Jo Inn Aankho Ne Shama Dekha.

तेरे हुस्न को किसी परदे की ज़रूरत ही क्या है,
कौन रहता है होश में तुझे देखने के बाद।

Tere Husn Ko Kisi Parde Ki Jarurat Hi Kya Hai,
Kaun Rehta Hai Hosh Mein Tujhe Dekhne Ke Baad.

Best Shayari on beauty in Hindi

Best Shayari on beauty in Hindi
Best Shayari on beauty in Hindi

रोज इक ताज़ा शेर कहाँ तक लिखूं तेरे लिए,

तुझमें तो रोज ही एक नई बात हुआ करती है।

 

Roj Ek Taaza Sher Kahan Tak Likhun Tere Liye,

Tujh Mein To Roj Hi Ek Nayi Baat Hua Karti Hai.

 

कुछ अपना अंदाज हैं कुछ मौसम रंगीन हैं,
तारीफ करूँ या चुप रहूँ जुर्म दोनो ही संगीन हैं! ?

 

Kuch apna andaj hai kuch mausam rangeen hai,
taarif karu ya chup rahu jurm dono hi sangeen hai! ?

 

Tere wajud se hain meri muqmmal kahaani,

Main khokhli sip aur tu moti ruhani. ?

तेरे वजूद से हैं मेरी मुक़म्मल कहानी,
मैं खोखली सीप और तू मोती रूहानी। ?‍

Agar Tum Na Hote To Gajal Kaun Kahta,
Tumhare Chehare Ko Kamal Kaun Kahta,
Yeh Karishma Hai Mahobat Ka..
Warna Pathar Ko Taj Mahal Kaun Kehta! ?

 

अगर तुम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता,
तुम्हारे चहरे को कमल कौन कहता,
यह तो करिश्मा है मोहब्बत का..
वरना पत्थर को ताज महल कौन कहता। ?

Tujhҟ๏ Deҟha fir usҟ๏ Na Deҟha
Chand ҟehta Raha…
ɱain Chand H๏on, ɱain Chand H๏on

तुझको देखा ✧ फिर उसको ना देखा ✧
चांद कहता रहा✧…मैं चांद हूं, मैं चांद हूं ✧

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *