India Shayari

Waqt

[60+ Best] Waqt shayari | Shayari on Waqt in Hindi For Fb

Hello Friends Today We Are Going To Upload the Best Collection Of  Shayari on Waqt and Waqt Shayari. All OF Us Have Good And Bad Time In Our Life. These Shayari on Waqt and Waqt Shayari Will Help You To Feel Motivated Or Remember That Time Once Again. You Can Share These Waqt Shayari With Your Friends On Whatsapp Facebook And Instagram.


Waqt Shayari 2021

 

Waqt Shayari 2021
Waqt Shayari 2021

 

 

ज़मीन पर मेरा नाम वो लिखते और मिटाते हैं,
वक्त उनका तो गुजर जाता है, मिट्टी में हम मिल जाते हैं।


एक तूफ़ान आया और सब कुछ उड़ा कर चला गया
गुजरा हुआ समय बहुत कुछ सिखा कर चला गया,
कभी सोचा न था दुनिया में ऐसे लोग भी होते हैं,
जिन्हें चुप कराया वही हमे रुला कर चला गया..


किसी की मजबूरियों पर मत हँसिये,
कोई मजबूरियाँ ख़रीद कर नही लाता,
डरिए समय की मार से क्योकि
बुरा समय किसी को बताकर नही आता।


हज़ारों साल सफ़र कर के फिर वहीं पहुँचे
बहुत ज़माना हुआ था हमें ज़मीं से चले


कोई ठहरता नहीं यूँ तो वक़्त के आगे
मगर वो ज़ख़्म कि जिस का निशाँ नहीं जाता


सदा ऐश दौराँ दिखाता नहीं
गया वक़्त फिर हाथ आता नहीं


 

Shayari on Waqt 

 

Shayari on Waqt
Shayari on Waqt

 

वक़्त मेरी तबाही पे हँसता रहा
रंग तकदीर क्या क्या बदलती रही


वक्त सबको ही मिलता है, ज़िंदगी बदलने के लिए,
पर ज़िंदगी कभी दोबारा नही मिलती, वक्त बदलने के लिए

Wakt Sabko Hi Milata Hai, Zindagi Badlane Ke Liye,
Par Zindagi Kabhi Dobara Nahi Milati, Wakt Badalane Ke Liye


मोहब्बत के भी अपने दायरे हैं हुजूर
वक्त अच्छा हो तो बेपनाह मिलती है
वर्ना ये तन्हाई में तनहा तड़पती है।

Mohabbat Ke Bhi Apne Dayare Hain Hujur
Wakt Achha Ho To Bepanaah Milati Hai
Warna Ye Tanhai Me Tanaha Tadapati Ha


अपने ख़िलाफ बातें, मैं अक्सर खामोशी से सुनता हूँ
जवाब देने का हक, मैने वक्त को दे रखा है

Apane Khilaf Baatein, Main Aksar Khamoshi Se Sunta Hu
Jawaab Dene Ka Hak, Maine wakt Ko De Rakha Hai.


सुब्ह होती है शाम होती है
उम्र यूँही तमाम होती है


हमें हर वक़्त ये एहसास दामन-गीर रहता है
पड़े हैं ढेर सारे काम और मोहलत ज़रा सी है


 

Hindi Shayari on Waqt

 

Hindi Shayari on Waqt

 

सियाह रात नहीं लेती नाम ढलने का,
यही तो वक़्त है सूरज तेरे निकलने का


सुनो कभी तोहफे में घड़ी दी थी तुमने,
अब जब भी देखती हूं तो यही ख्याल आता है,
काश तुम थोड़ा वक़्त भी देते।


वो वक़्त भी बहुत खास होता है,
जब सर पर माता पिता का हाथ होता है

आँखों की नमी बढ़ गई,
बातों के सिलसिले कम हो गए,
जनाब ये वक़्त बुरा नहीं है,
बुरे तो हम हो गए।


आँखो में यु समन्दर लिए किनारे कि तलाश में हूँ,
इस वक्त को वक्त देकर वक्त पाने कि आस में हूँ।


जनाब मालूम नहीं था की ऐसा भी एक वक़्त आएगा,
इन बेवक़्त मौसमों की तरह तू भी क्षणभर में यु बदल जायेगा।


 

Waqt Shayari In Hindi For Whatsapp

 

Waqt Shayari In Hindi For Whatsapp

 

तुम्हारा किया, तुम्हे ही बतलाता है
समय आइना जरूर दिखलाता है


हर धोखे के इल्जाम हम पर लगे
गुनाह वो करे हम सहते गये
साबित भी कैसे करते अपनी बेगुनाही
जब वक़्त भी अपना साथ ना देने लगे ।।


मेरी मजबूरी पर यू मत हासिये
इन मजबूरियों को तुम खरीद नही पाओगे
बहुत डरावना होता है समय की मार
वरना बुरे वक्त मैं खुद को बचा नही पाओगे


कितना भी सता ले हमे ये वक़्त
हम खुद को टूटने नही देंगे
बस इसी मोड़ पर एक दिन
तुझे भी बदलने को मजबूर कर देंगे ।।


आँखों के पर्दे भी नम हो गए
बातो के सिलसिले भी कम हो गए
पता नहीं गलती किसकी है
वक़्त बुरा है या बुरे हम हो गए


किसी की मजबूरियों पर मत हँसिये
कोई मजबूरियां खरीद कर नहीं लाता
डरिये वक़्त की मार से…क्यूंकि
बुरा वक़्त किसी को बता कर नहीं आता


Best Shayari on Waqt

 

Top Best Shayari on Waqt

 

वक्त ऐसे-ऐसे दिन दिखा रहा है
अपने पराए का भेद बता रहा है


इस जज़्ब-ए-ग़म के बारे में एक मशविरा तुमसे लेना है
उस वक़्त मुझे क्या लाज़िम है जब तुम पे मेरा दिल आ जाए


आँखोँ के परदे भी नम हो गए बातोँ के सिलसिले भी कम हो गए. . .
पता नही गलती किसकी है वक्त बुरा है या बुरे हम हो गए…


Na Jane Kyun Waqt Is Tareh Gujar Jata Hai,
Jo Waqt Bura Hai Woh Palat Ke Samne Aata Hai,
Aur Jis Waqt Ko Hum Dil Se Pana Chate Hai,
Wo To Bas Ek Pal Bankar Beet Jata Hai.

न जाने क्यूँ वक़्त इस तरह गुजर जाता है,
जो वक़्त था वो पलट कर सामने आता है,
और जिस वक़्त को हम दिल से पाना चाहते हैं,
वो तो बस एक पल बनकर बीत जाता है।


Chale Jaayenge Tujhe Tere Haal Par Chhod Kar,
Kadar Kya Hoti Hai Tujhe Waqt Sikha Dega.

चले जायेंगे तुझे तेरे हाल पर छोड़ कर,
कदर क्या होती है तुझे वक़्त सिखा देगा।


वक्त नूर को बेनूर कर देता हैं,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता हैं,
कौन चाहता हैं अपनों से दूर होना,
लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता हैं


Other Posts-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top